विरोध:प्रदर्शन के बाद सुलह, व्यापारियों को दुकान लगाने जगह आवंटित

कांकेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दुकान लगाने से मना किया जो विरोध में सड़क पर बैठ गए व्यापारी। - Dainik Bhaskar
दुकान लगाने से मना किया जो विरोध में सड़क पर बैठ गए व्यापारी।

गढ़पिछवाड़ी वन प्रबंधन सुरक्षा समिति नवरात्रि के अवसर पर गढ़िया पहाड़ पर दुकान नहीं लगाने दे रही थी। प्रभावित व्यापारियों ने पार्षदों के साथ गढ़िया पहाड़ में धरना प्रदर्शन किया। अफसरों ने मौके पर पहुंच दोनों पक्ष में सुलह कराई तथा पहाड़ पर दुकानें लगाने जगह आवंटन की।

नवरात्रि में 9 दिनों तक शहर के गढ़िया पहाड़ में बड़ी संख्या में श्रद्धालु देवी दर्शन करने पहुंचते हैं। इसके चलते पर्व के दौरान शहर के व्यापारी पूजन सामग्री, फूल, हाेटल व अन्य दुकानें पहाड़ पर लगाते हैं। पिछले साल से दुकान लगाने को लेकर गढ़पिछवाड़ी वन प्रबंधन समिति व शहर के व्यापारियों के बीच विवाद हो रहा था।

25 सितंबर को नवरात्र के लिए दुकान लगाने व्यापारी पहुंचे तो गढ़पिछवाड़ी वन प्रबंधन समिति के लोगों ने पहाड़ पहुंच दुकान लगाने से मना किया। 26 सितंबर को 15 व्यापारियों ने जिला प्रशासन से मुलाकात कर समस्या बताते दुकान लगाने अनुमति देने कहा।

व्यापारियों ने कहा वे पिछले 30 साल से हर नवरात्र पर पहाड़ पर दुकान लगाते हैं। 27 सितंबर की सुबह राजापारा, जनकपुर तथा भंडारीपारा के व्यापारी फिर दुकान लगाने तैयारी में थे इस बीच फिर से दुकान लगाने मना किया। प्रभावित व्यवसायियों के साथ राजापारा पार्षद आनंद चौरसिया, जनकपुर पार्षद नरेश बिछिया ने गढ़िया पहाड़ नाका के पास सुबह 10 बजे धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया।

सूचना मिलने पर अधिकारी मौके पर पहुंचे और दोनों पक्षों को कांकेर थाने बुलवाया। एसडीएम धनंजय नेताम, तहसीलदार आनंद नेताम, पूर्व पालिकाध्यक्ष जितेंद्र ठाकुर, थाना प्रभारी शरद दुबे ने दोनों पक्षों के साथ चर्चा कर सुलह कराई।

व्यापारियों को समझने में हुई गलतफहमी : गढ़पिछवाड़ी वन प्रबंधन समिति अध्यक्ष जगत राम भंडारी ने कहा समिति ने दुकान लगाने किसी को मना नहीं किया था। तालाब के पास दुकान लगा गंदगी फेंकने से तालाब का पानी प्रदूषित होता है। इसलिए तालाब के पास दुकान लगाने मना किया गया था। व्यापारियों के समझने में गलतफहमी हुई।

यह किया गया तय

तय किया गया की 2023 में सभी व्यवसायियों को क्रमानुसार व्यवस्थित ढ़ंग लगाने जगह आवंटित की जाएगी। नवरात्रि में 9 दिन दुकान लगाने प्रत्येक व्यापारी से वन सुरक्षा प्रबंधन समिति 200 रूपए शुल्क लेगी। दुकान लगाने पहुंचने वाले जनकपुर, राजापारा व भंडारीपारा के व्यापारी आधार कार्ड लेकर पहुंचेंगे, जिनसे वाहन किराया नहीं लिया जाएगा।

जनकपुर पार्षद नरेश बिछिया ने कहा कांकेर नगरपालिका ने गढ़िया पहाड़ को पूरी तरह से विकसित किया है। सीढ़ी निर्माण के साथ बिजली की समुचित व्यवस्था की है। अब गढ़पिछवाड़ी वन प्रबंधन समिति पहाड़ पर अपनी मनमानी चला रही थी जिसका विरोध किया गया। दोनों पक्षों में सुलह हो गई है।

दोनों पक्षों में हो गई सुलह

एसडीएम धनंयज नेताम ने कहा गढ़िया पहाड़ पर दुकान लगाने को लेकर विवाद की स्थिति बन गई थी। मामला सुलझ गया है। दोनो पक्षो में सुलह हो गई है।

खबरें और भी हैं...