सुस्ती से नुकसान:3 साल रुका रिटेनिंग वाॅल का काम तो लागत 10 करोड़ बढ़ गई

कांकेर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दूध नदी का तट जहां बनना है रिटेनिंग वॉल। - Dainik Bhaskar
दूध नदी का तट जहां बनना है रिटेनिंग वॉल।

बारिश का मौसम आ चुका है लेकिन अभी तक शहर के दूध नदी में रिटेनिंग वॉल निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया है। इस काम के लिए प्रशासकीय स्वीकृति मिलने में पहले विलंब हुआ। फिर महीनों यह काम तकनीकी स्वीकृति के लिए लंबित रहा। इस कार्य का टेंडर हुआ जिसमें दुर्ग के एक ठेकेदार को काम 19 प्रतिशत अधिक दर पर मिला।

रिटेनिंग वाल का जब प्रोजेक्ट बना था तब से लेकर अब तक सीमेंट और छड़ की कीमतें बढ़ गईं। इसलिए विभाग ने इसका दोबारा से प्रोजेक्ट बनाया तो लागत 26 करोड़ से बढ़कर 36 करोड़ हो गई। अब 10 करोड़ रुपए और जो लागत बढ़ी है उसकी स्वीकृति के लिए विभाग ने शासन को प्रस्ताव भेजा है। जब तक 10 करोड़ की अतिरिक्त राशि के लिए स्वीकृति नहीं मिलेगी काम शुरू नहीं हो पाएगा।

शहर के बीच से बहने वाली दूध नदी का पानी बारिश के दिनों में शहर की सड़कों पर पहुंच जाता है। इसी पानी को शहर में प्रवेश होने से रोकने के लिए विभाग ने दूध नदी में रिटेनिंग वाल बनाने की योजना 2019 में बनाई थी। तब इसकी लागत 26 करोड़ रुपए थी। बजट में इस काम के लिए स्वीकृति मिली। इसी बीच कोरोना संक्रमण आ गया और शासन का पूरा ध्यान कोरोना राहत कार्यों पर चला गया था। इसके चलते यह कार्य ठंडे बस्ते में चला गया था।

20 जुलाई 2021 को इस कार्य के लिए प्रशासकीय स्वीकृति शासन से मिल पाई। इसके बाद 8 महीनों तक यह कार्य तकनीकी स्वीकृति के लिए लंबित रहा। 3 मार्च 2022 को तकनीकी स्वीकृति मिली। इस कार्य के लिए विभाग ने टेंडर निकाला जिसमें दुर्ग के एक ठेकेदार की बोली सबसे कम वह भी स्वीकृत राशि से 19 प्रतिशत अधिक दरों पर गई। यानी टेंडर के दौरान ही इस कार्य की लागत लगभग 5 करोड़ बढ़ गई थी।

शासन को फिर स्वीकृति के लिए भेजा गया प्रस्ताव

जल संसाधन विभाग के कार्यपालन अभियंता एनके चौहान ने कहा प्रशासकीय के साथ तकनीकी स्वीकृति विभाग को मिल चुकी है। 14 मार्च 2022 को निविदा भी हो चुकी है लेकिन 10 करोड़ लागत ज्यादा आने की वजह से विभाग ने दोबारा अतिरिक्त राशि की स्वीकृति प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। स्वीकृति के बाद ही काम शुरू होगा।

रिटेनिंग वाॅल निर्माण में होने हैं ये सारे काम

दूधनदी में दोनों तरफ रिटेनिंग वाॅल बनना है। नदी के बांई तट में 1490.40 मीटर लंबी व दाएं तट पर 276 मीटर लंबी रिटेनिंग वाॅल बनेगी। रिटेनिंग वाल की ऊंचाई दोनों ओर 7 मीटर होगी। इसके बाईं ओर भंडारीपारा से लेकर पुराना बसस्टैंड स्टापडेम तक और दायीं ओर राजापारा वार्ड से स्टापडेम तक बनेगी।

बीते तीन सालों में बढ़ गए सीमेंट और छड़ के दाम

2019 में जब प्रोजेक्ट बना तब के सीमेंट तथा छड़ के दामों को शामिल किया गया था। तब रिटेनिंग वाल की लागत लगभग 26 करोड़ आ रही थी। तीन सालों में छड़ तथा सीमेंट के दामों में भारी उछाल आ गया है। इसके चलते प्रोजेक्ट को रिवाइज किया गया तो इसकी लागत 10

खबरें और भी हैं...