लापरवाही ने ली जान:मना करने पर भी नहीं माना किसान, खेत की फेंसिंग में लगाया करंट, युवक-भालू की मौत

कांकेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुबह 5 बजे की तस्वीर जिसमें भालू के शव के पास दिख रहा है  फेंसिंग तार जिसमें किसान ने दौड़ाया था करेंट। - Dainik Bhaskar
सुबह 5 बजे की तस्वीर जिसमें भालू के शव के पास दिख रहा है फेंसिंग तार जिसमें किसान ने दौड़ाया था करेंट।

ग्राम कुम्हानखार में खेत की फेंसिंग में लगे तार के करंट की चपेट में आने से एक युवक और भालू की दर्दनाक मौत हो गई। किसान ने मक्का फसल की सुरक्षा करने फेंसिग से खेत का घेराव किया थ। किसान रोज रात को खेत के ऊपर से गई एलटी बिजली लाइन में हुकिंग कर फेंसिंग वायर से जोड़ देता था और सुबह आकर तार निकाल देता था। रात में खेत की ओर पहुंचा एक युवक और फेंसिंग की चपेट में आ गए, जिससे दाेनों की दर्दनाक मौत हो गई। हादसे के बाद ग्रामीणों में किसान के खिलाफ भारी आक्रोश है।

जानकारी के अनुसार शहर से 18 किमी दूर ग्राम कुम्हानखार में किसान संदीप शोरी ने अपने 3 एकड़ खेत में मक्का फसल लगाई थी। कंटीले तारों से पूरे खेत की फेंसिंग कराई है। खेत के ऊपर से ही 440 वाट एलटी लाइन गई है। रात में किसान एलटी लाइन में हुकिंग कर फेंसिंग से तार से जोड़ देता, जिससे फेंसिंग में करंट दौड़ने लगता था। सुबह किसान हुकिंग के तार को निकाल देता था। रात में खेतों की जानवरों से सुरक्षा के लिए किसान द्वारा किए अवैध कार्य से युवक तथा भालू की जान चली गई।

गांव का युवक मूलचंद मंडावी 22 वर्ष पिता नत्थलू 25 सितंबर की रात भोजन कर 9 बजे गांव में चल रहे रामधुनी कार्यक्रम जाने निकला था। दूसरे दिन सुबह तक घर नहीं पहुंचा तो परिजनों ने उसके मोबाइल पर काॅल किया। लगातार घंटी जाती रही, लेकिन उसने रिसीव नहीं किया।

सोमवार शाम बैटरी डिस्चार्ज होने के कारण मोबाइल बंद हो गया था। परिजन उसे तलाशते रहे लेकिन कहीं पता नहीं चला। 26 सितंबर की रात ग्रामीणों ने उक्त किसान के खेत की ओर से भालू के चिल्लाने की आवाज सुनी। 27 सितंबर की सुबह 5 बजे ग्रामीण ऊधर पहुंचे तो संदीप शोरी के खेत के पास भालू को मरा पाया। ग्रामीणों ने आसपास तलाशी ली तो थोड़ी दूरी पर मूलचंद मंडावी का शव पड़ा था।

दुष्कर्म मामले में जेल जा चुका है संदीप : संदीप शोरी दुष्कर्म के आरोप में 5 वर्ष पहले जेल जा चुका है। उस पर एक युवती के साथ दुष्कर्म का आरोप लगा था। मामले में उसे 6 साल की सजा हुई थी।

हादसे के बाद गांव के किसानों में भारी आक्रोश

25 की रात युवक तो 26 की रात भालू की मौत

मूलचंद की मौत 25 सितंबर की रात करंट लगने से हो चुकी थी। खेत के आसपास सुनसान है, जिससे किसी को वहां उसका शव पड़े होने की जानकारी नहीं हो पाई। 26 सितंबर की रात करंट की चपेट में आने से भालू की मौत हो गई। करंट लगने के बाद भालू ने कई बार चिल्लाया था। शंका होने पर 27 सितंबर की सुबह ग्रामीणों ने तलाश की तो पहले भालू फिर युवक का शव मिला।

ग्रामीणों को पहले से थी खेत में करंट की जानकारी

संदीप शोरी के खेत की फेंसिंग में करंट होने की जानकारी कुछ ग्रामीणों को थी। ग्रामीणों ने संदीप को समझाया भी, लेकिन जिद्दी स्वभाव का होने के कारण वह नहीं माना और बड़ा हादसा हो गया। संदीप शोरी को एक रिश्तेदार ने हल्का झटका वाला करंट लगाने सुझाव दिया था, जिससे किसी की जान नहीं जाती, लेकिन संदीप ने एलटी लाइन से ही 440 वाट करंट फेंसिंग में दौड़ा दिया।

सरपंच, ग्रामीण पहुंचे थाना

घटना से आक्रोशित सरपंच सोहेंद्र कुंजाम, कोटवार प्रवीण कोर्राम के साथ बड़ी संख्या में ग्रामीण कांकेर थाना शिकायत करने पहुंचे। मृतक के बड़े भाई अर्जुन मंडावी ने पुलिस में लिखित शिकायत की जिस पर मर्ग कायम कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

विद्युत विभाग करेगा पुलिस में शिकायत

सरोना विद्युत विभाग के जेई रमेश कुमार सिदार ने कहा खेत के ऊपर से गई 440 वाट एलटी लाइन से किसान ने अवैध रूप से हुकिंग कर फेंसिंग में करंट दौड़ाया था। विभाग इसकी शिकायत पुलिस में करेगा।

पुलिस कर रही जांच

टीआई शरद दुबे ने कहा शिकायत के आधार पुलिस ने मर्ग कायम किया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद जांच आगे बढ़ेगी। विद्युत विभाग से भी इस संबंध में जानकारी ली जा रही है।

खबरें और भी हैं...