अंतागढ़ से चली पहली ट्रेन, स्टेशन पर उमड़ी भीड़:दुर्ग तक चलने वाली पैसेंजर को सांसद ने दिखाई हरी झंडी, पहले सफर पर 215 यात्री

कांकेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ में कांकेर जिले के अंतागढ़ से रायपुर-दुर्ग तक आज से पैसेंजर ट्रेन शुरू हुई है। सांसद मोहन मंडावी ने अंतागढ़ रेलवे स्टेशन से इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई है। निर्धारित समय के तहत दोपहर 1बजकर 35 मिनट पर ट्रेन को रायपुर और दुर्ग के लिए रवाना किया गया। आज इस ट्रेन से पहली बार कुल 215 यात्री रायपुर तक का सफर कर रहे हैं। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में इलाके के लोग, जनप्रतिनिधि समेत अफसर मौजूद थे।

सांसद मोहन मंडावी ने कहा कि, आज से अंतागढ़-रायपुर/दुर्ग पैसेंजर ट्रेन की शुरुआत कर दी गई है। इस ट्रेन के शुरू होने से इलाके के लोगों को बड़ा फायदा मिलेगा। उन्होंने रेलवे से मांग की है कि इस ट्रेन की नाइट हालटिंग अंतागढ़ में ही करवाई जाए। ट्रेन का समय दोपहर 1.35 से बदलकर सुबह का समय किया जाए, जिससे लोगों को फायदा मिलेगा। ट्रेन और स्टेशन की सुरक्षा के लिए पुलिस अधिकारियों को चौकन्ना रहने को कहा गया है।

यात्री बोले- खर्च कम फायदा ज्यादा

इस ट्रेन से पहली यात्रा करने वाले अंतागढ़ के रहवासी सिराज खान ने कहा कि, लंबे इंतजार के बाद आखिरकार ट्रेन शुरू कर दी गई है। अच्छी बात यह है कि जहां प्राइवेट बसों से अंतागढ़ से रायपुर जाने के लिए 200 से 300 किराया देना पड़ता था, तो वहीं अब इस ट्रेन में सिर्फ 65 रुपये किराया ही लगेगा। समय की भी बचत होगी। ट्रेन के शुरू होने के बाद अब इलाके के लोगों को एक बड़ा फायदा मिलेगा। सिर्फ 2.30 घंटे में दुर्ग और लगभग 3 घंटे में रायपुर यात्री पहुंच जाएंगे।

इसलिए लेट शुरू हुई ट्रेन

दरअसल, रावघाट रेल परियोजना के तहत दल्लीराजहरा से रावघाट तक 95 किमी रेल लाइन बिछाने का कार्य शुरू होने के बाद रेल लाइन साल 2017 में गुदुम पहुंच गई। साथ ही साल 2018 में भानुप्रतापपुर तक रेल लाइन बिछाने का काम पूरा हो गया। जिसके बाद आगे केंवटी तक पटरियां बिछाने का काम थोड़ी धीमी गति से शुरू हुआ। हालांकि साल 2019 में अंतागढ़ तक रेलवे लाइन बिछानी थी। लेकिन 2020 में कोरोना संक्रमण के कारण प्रोजेक्ट का काम प्रभावित होने लगा। यहीं से काम की रफ्तार धीमी होनी शुरू हुई थी।

लंबे इंतजार के बाद मिली राहत

अगस्त 2021 में अंतागढ़ तक रेल लाइन बिछाने के बाद टेस्टिंग का भी काम पूरा हो गया था। फिर विभागीय लेट लतीफी के चलते पैसेंजर ट्रेन का लाभ लेने के लिए लोगों को 2022 तक का इंतजार करना पड़ा। अब 3 साल बाद अंतागढ़ स्टेशन में पहली पैसेंजर ट्रेन पहुंचेगी। 13 अगस्त से रेल मार्ग के माध्यम से अंतागढ़ रायपुर से जुड़ गया है। ऐसे में लोगों को सहूलियत मिलेगी।

छत्तीसगढ़ में 4 ट्रेनें फिर कैंसिल:नागपुर रेल मंडल के वर्धा- चीतोडा रेलवे स्टेशन में होगा नॉन इंटरलॉकिंग का काम, 15 से 17