• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Korba
  • The Banks In Which The Guards Are Posted Are Not Serious About Security, Leaving The Basic Work And Helping Those Who Come To The Bank.

बैंकों की ब्रांचों से सुरक्षा गार्ड गायब:जिन बैंकों में गार्ड तैनात वे सुरक्षा के प्रति गंभीर नहीं, मूल काम छोड़ बैंक आने वालों की मदद में जुटे रहते हैं

कोरबा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुवार दोपहर की तस्वीर, आंध्रा बैंक की शाखा में कोई सुरक्षा गार्ड नहीं था। - Dainik Bhaskar
गुरुवार दोपहर की तस्वीर, आंध्रा बैंक की शाखा में कोई सुरक्षा गार्ड नहीं था।

जिले में एटीएम की सुरक्षा तो पहले से ही भगवान भरोसे है। अब बैंकों की शाखाओं से गार्ड भी हटाए जाने लगे हैं। जिन बैंकों में सुरक्षा गार्ड हैं वहां बैंकर्स उनसे भी कोई न कोई काम कराते रहते हैं। गुरुवार को शहर के एक किलोमीटर दूरी पर संचालित 8 राष्ट्रीयकृत व गैर राष्ट्रीयकृत बैंकों में सुरक्षा की हकीकत वहां पहुंचने पर पता चली।

केनरा बैंक से लेकर टीपी नगर चौक व टीपी नगर चौक से काफी हाउस स्टेडियम रोड पर संचालित इन बैंकों में आरबी फ्यूल्स के सामने यूनियन बैंक ऑफ इंडियन, होटल सेंटर पाइंट के सामने पंजाब नेशनल बैंक, आंध्रा व कार्पोरेशन बैंक, काफी हाउस के सामने बैंक ऑफ बड़ोदा, टीपी नगर चौक से सीएसईबी चौक की ओर बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, आईडीबीआई बैंक व केनरा बैंक की ब्रांच हैं।

इनमें यूनियन बैंक, बैंक ऑफ बड़ोदा व आईसीआईसीआई बैंक को छोड़ शेष सभी बैंकों में सुरक्षा की अनदेखी बनी रही। भारतीय स्टेट बैंक के लीड बैंक प्रबंधक किरन कुमार लुगुन से संपर्क किया गया तो वे उपलब्ध नहीं हो सके।

शहर के 60 फीसदी बैंक में ही सुरक्षा गार्ड
पूरे जिले में 90 से अधिक से बैंकों की शाखाएं संचालित हैं। सर्वाधिक शाखाएं राष्ट्रीयकृत बैंकों की हैं। अकेले एसबीआई की 25 से अधिक ब्रांच काम कर रही है। लेकिन 30 से अधिक बैंकों की शाखाएं ऐसी हैं जहां कोई भी सुरक्षा गार्ड नहीं हैं।

60 फीसदी बैंकों में जहां सुरक्षा गार्ड हैं उनसे बैंकों द्वारा कोई न कोई ऐसा काम लिया जाता है जो उनकी सुरक्षा से अलग होता है। इसमें पंजाब एंड सिंध बैंक, इलाहाबाद, एचडीएफसी बैंक, महाराष्ट्र बैंक आदि शामिल हैं।

मुख्यालय से होता है अनुबंध:
बैंकों के मुख्यालय बिलासपुर व रायपुर में हैं। बैंक प्रबंधकों का कहना है कि सुरक्षा गार्डों की नियुक्ति के लिए मुख्यालय से अनुबंध होता है। इसमें उनका कोई हस्तक्षेप नहीं होता है। सुरक्षा गार्ड नहीं होने पर असुविधा होती ही है। नहीं होने पर मुख्यालय को इसकी जानकारी दे दी जाती है।

जानिए किन बैंकों में सुरक्षा को लेकर क्या लापरवाही दिखी

केवल सीसीटीवी की बदोलत सुरक्षा
आंध्रा-कार्पोरेशन बैंक व बैंक ऑफ बड़ोदा की शाखा अपनी सुरक्षा केवल सीसीटीवी के भरोसे कर रहे हैं। यहां कोई भी कभी भी बेधड़क अंदर जा सकता है इंक्वायरी करने वाला कोई नहीं है। इससे कभी भी कोई भी घटना हो सकती है।

मुख्य गेट पर रहते ही नहीं गार्ड
पीएनबी में बैंक की सुरक्षा छोड़ गार्ड एक दूसरे की मदद में लगा रहा। आईडीबीआई में एक मात्र सुरक्षा गार्ड, वह छुट्टी में रहता है तो दूसरा कोई नहीं होता। यूनियन बैंक व बीओआई, स्टेट बैंक में गार्ड अंदर सुरक्षा देख रहे थे।

केनरा बैंक में कोई सुरक्षा गार्ड नहीं
मुख्य सड़क टीपी नगर में केनरा बैंक की शाखा है। बैंक खुलने के बाद से ही यहां कोई सुरक्षा गार्ड तैनात नहीं है। बैंक के अंदर आने जाने वाले लोगों पर कोई रोक टोक नहीं होती है। सीसीटीवी जरूर लगे हैं। यह लापरवाही भारी पड़ सकती है।

एटीएम की नहीं करते बैंक निगरानी
कोई भी बैंक हों सभी अपने ब्रांचों के सामने एटीएम स्थापित किए हैं। साथ ही शहर के विभिन्न जगहों पर भी उनके एटीएम लोगों की सुविधा के लिए बगैर सुरक्षा लगे हैं। जहां सुरक्षा के नाम पर कोई भी कर्मचारी कभी नहीं रहता है।

खबरें और भी हैं...