कलेक्टर संजीव झा के घर निकला सांप:दीपावली की बधाई देने आए SDOP की पड़ी नजर; स्नेक कैचर ने किया रेस्क्यू, अधिकारी ने की तारीफ

कोरबा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्नेक कैचर जितेंद्र सारथी। - Dainik Bhaskar
स्नेक कैचर जितेंद्र सारथी।

कोरबा जिले में दीपावली की रात कलेक्टर बंगले में करैत सांप निकलने से वहां के कर्मचारियों में अफरातफरी मच गई। जिस समय कलेक्टर संजीव झा और उनकी पत्नी समेत पूरा परिवार दिवाली मना रहा था, तभी उनसे मिलने आए SDOP रामनरेश दुबे की नजर बंगले में बैठे हुए सांप पर मिली।

SDOP ने बंगले के अन्य कर्मचारियों और स्नेक कैचर जितेंद्र सारथी को सांप की सूचना दी। खबर मिलते ही स्नेक कैचर जितेंद्र सारथी कलेक्टर के बंगले पर पहुंचे। उन्होंने पूरी सावधानी से सांप को रेस्क्यू कर लिया। उन्होंने कहा कि करैत सांप बहुत ही जहरीला और गुस्सैल स्वभाव का होता है। वो लोगों को काटने के लिए मशहूर है। वो तो समय रहते इस पर नजर पड़ गई, नहीं तो कोई बड़ा हादसा हो सकता था। वहीं कलेक्टर संजीव झा और उनकी पत्नी खुद सांप को देखने के लिए आए और उसके बारे में स्नेक कैचर जितेंद्र सारथी से जानकारी ली।

कलेक्टर बंगले का स्टाफ।
कलेक्टर बंगले का स्टाफ।

कलेक्टर संजीव झा ने जितेंद्र सारथी को स्नेक मैन ऑफ कोरबा कहते हुए उनकी तारीफ भी की। उन्होंने कहा कि जितेंद्र काफी अच्छा काम कर रहे हैं। वे सांपोंऔर इंसानों दोनों को एक-दूसरे से बचा रहे हैं और सांपों के बारे जो भ्रांतियां फैली हुई हैं, उसके प्रति लोगों को जागरूक कर रहे हैं। कलेक्टर ने सर्प मित्रों की पूरी टीम को दीपावली की बधाई भी दी। सांप को पकड़कर फिलहाल जंगल में छोड़ दिया गया है। एसडीओपी रामनरेश दुबे ने बताया कि वे कलेक्टर महोदय के घर दीपावली के बधाई देने पहुंचे थे, इसी दौरान उनकी नजर सांप पर पड़ी थी।

कोरबा में लगातार घरों से सांप निकलने की घटनाएं

पिछले महीने की 17 सितंबर को भी कोरबा जिले के रामपुर चौकी क्षेत्र में करैत सांप के काटने से बच्ची की मौत हो गई थी। नकटीखार गांव में रहने वाले श्याम दास महंत की 6 साल की बेटी पलक को उस समय करैत सांप ने पीठ में काट लिया था, जब वो सो रही थी।

पिछले महीने AC में बैठे सांप को भी निकाला गया था।
पिछले महीने AC में बैठे सांप को भी निकाला गया था।

उससे पहले शहर के कोसाबाड़ी स्थित घर के एसी से सांप को निकाला गया था। 4 फीट लंबा रैट स्नेक चूहे के लिए घर में घुस आया था। वहीं रामपुर इलाके में भी जूते की रैक से कोबरा सांप को रेस्क्यू किया गया था। जूते-चप्पलों के बीच छिपे कोबरा को देख लोगों के रोंगटे खड़े हो गए थे। इससे पहले कोरबा के CSEB ऑफिसर कॉलोनी स्थित बीकन इंग्लिश स्कूल में भी सांप घुस गया था। जिससे टीचर्स और बच्चे दहशत में आ गए थे। बाद में स्नेक रेस्क्यू टीम ने सांप को पकड़ा था। शहर के वार्ड क्रमांक- 54 में भी 6 फीट लंबे अजगर ने एक मुर्गी को अपना निवाला बना लिया था।