4 दिन तक तगाड़ी के नीचे कैद था नाग,VIDEO:बच्चे को काटने पर लोगों ने पकड़ा,बोले-जब तक बेटा ठीक होकर नहीं आता नहीं छोड़ेंगे

कोरबा7 महीने पहले
इस तरह से नाग को कैद किया गया था।

छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले से बेहद खतरनाक नाग सांप को पकड़कर उसे कैद कर लेने का मामला सामने आया है। इस खतरनाक सांप ने एक 8 साल के बच्चे का काट लिया था। जिसके बाद लोगों ने उसे पकड़ लिया। फिर कहने लगे कि जब तक हमारा बच्चा अब ठीक होकर घर नहीं लौट आता। तब तक हम इसे छोड़ेंगे ही नहीं। इस प्रकार नाग को लोगों ने 4 दिन तक कैद कर रखा था।

दरअसल, ये पूरा मामला जिले के कनकी गांव का है। यहां राम धनवार अपने परिवार के साथ रहते हैं। वह खेती किसानी और मछली पकड़ने का काम करते हैं। रोज की तरह 22 जून को भी उनका 8 साल का बेटा घर के आंगन में खेल रहा था। उसी दौरान जहरीले नाग ने उसे काट लिया। सांप के काटने के बाद बच्चा जोर से चिल्लाया। जिसके बाद उसके घर के लोग पहुंचेे, तब जाकर पूरे मामले का पता चला।

घर के लोग काफी परेशान थे।
घर के लोग काफी परेशान थे।

इधर, घटना के बाद तुरंत ही बच्चे को अस्पताल ले जाया गया। लेकिन घर के दूसरे लोगों ने नाग को किसी तरह से पकड़ लिया। नाग को लोगों ने मछली पकड़ने वाले जाल में फंसा लिया था। फिर उसे एक तगाड़ी के नीचे बंद कर दिया गया। उसके ऊपर से एक टोकनी को ढक दिया गया था। जिससे वह भाग ना सके। उसकी निगरानी भी की जा रही थी। लोगों का कहना था कि बच्चा जब तक नहीं आता। इसे छोडेंगे ही नहीं।

तगाड़ी हटाते ही भागने के प्रयास में था नाग।
तगाड़ी हटाते ही भागने के प्रयास में था नाग।

वहीं बच्चे का इलाज अस्पताल में जारी था। बच्चे की हालत गंभीर थी। इसलिए उसे ICU में भर्ती कराया गया था। इस बात की जानकारी स्नेक रेस्क्यू टीम के सदस्य जितेंद्र सारथी को मिली तो उन्होंने बच्चों के परिजनों को समझाया। कहा कि सांप को छोड़ दिया जाए। लेकिन परिजन राजी नहीं थे। इस बीच बच्चे का इलाज चलता रहा। बाद में बच्चे की हालत जब ठीक हुई तो बच्चे को 26 जून को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।

कैद से बाहर निकलने के बाद नाग।
कैद से बाहर निकलने के बाद नाग।

बच्चे के डिस्चार्ज होने की जानकारी जितेंद्र सारथी को भी दी गई। खबर मिलने पर जितेंद्र मौके पर पहुंचे। इसके बाद नाग को वहां से निकाला गया। फिर उसे जंगल में छोड़ा गया है। राहत की बाय यह भी रही कि सांप भी इतने दिनों बाद जिंदा था।

खबरें और भी हैं...