पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छत्तीसगढ़ बोर्ड की परीक्षाओं का ऐलान:15 अप्रैल से शुरू होगी 10वीं की परीक्षा, उसके खत्म होने बाद 3 मई से 12वीं की परीक्षा शुरू होगी

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस परीक्षा में भी विद्यार्थियों को शारीरिक दूरी और मास्क के नियमों का कड़ाई से पालन करना होगा। स्कूलों से दूर-दूर बैठक व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं। - Dainik Bhaskar
इस परीक्षा में भी विद्यार्थियों को शारीरिक दूरी और मास्क के नियमों का कड़ाई से पालन करना होगा। स्कूलों से दूर-दूर बैठक व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं।
  • ऑनलाइन पढ़ाई की आफलाइन हाेंगी परीक्षाएं, जहां पढ़ाई की, उसी स्कूल में बनेगा परीक्षा केंद्र

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान कर दिया है। कोरोना प्रतिबंधों की वजह से इस बार 10वीं और 12वीं की परीक्षा के लिए बिल्कुल अलग-अलग समय तय हुआ है। 10वीं की मुख्य परीक्षा 15 अप्रैल से शुरू होकर एक मई तक चलेगी। उसके बाद 3 मई से 12वीं की परीक्षा शुरू होगी। यह परीक्षा 24 मई को खत्म होगी।

छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव प्रो. वीके गोयल ने बताया, बोर्ड की मुख्य परीक्षाएं ऑफलाइन मोड में कराई जाएंगी। मतलब परीक्षार्थियों को केंद्र पर पहुंचकर कॉपी में उत्तर लिखकर निर्धारित समय के भीतर उसे जमा करना होगा। बोर्ड ने इस बार अलग से परीक्षा केंद्र बनाने से परहेज किया है। विद्यार्थी ने जिस स्कूल से पढ़ाई की है, वहीं उसकी परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। परीक्षा के दौरान सैनिटाइजेशन, मास्क और शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करना अनिवार्य किया गया है।

हाईस्कूल यानी 10वीं और हायर सेकेंडरी यानी 12वीं बोर्ड की परीक्षा सुबह 9 बजे से 12.15 होगी। तय कार्यक्रम के मुताबिक 9 बजे तक परीक्षार्थी को सीट पर आ जाना है। 9.5 पर कॉपी दी जाएगी। 9.10 पर प्रश्नपत्र दिए जाएंगे। पांच मिनट का समय प्रश्नपत्र को पढ़कर समझने के लिए दिया जाएगा। 9.15 से परीक्षार्थी उत्तर लिखना शुरू कर सकेगा। 10वीं बोर्ड की शुरुआत 15 अप्रैल को हिंदी के प्रश्नपत्र से हो रही है। 12वीं परीक्षा की शुरुआत 3 मई को हिंदी के पेपर से ही होगी।

प्रायोगिक परीक्षाएं 10 फरवरी, बाहर से नहीं जाएंगे परीक्षक

10वीं और 12वीं की प्रायोगिक परीक्षाएं 10 फरवरी से शुरू हो जानी हैं। एक विषय की प्रायोगिक परीक्षा 2 से 3 शिफ्ट में कराने को कहा गया है। परीक्षार्थियों की संख्या अधिक होने पर उसे दो-तीन दिनों में भी कराया जा सकता है। बोर्ड ने इस बार प्रायोगिक परीक्षाओं के लिए बाहर से परीक्षक भेजने की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है। स्कूलों को 10 मार्च तक परीक्षा पूरी कर लेने को कहा गया है।

9वीं-11वीं के लिए होम एग्जाम

बोर्ड ने 9वीं और 11वीं कक्षा की वार्षिक परीक्षा के लिए होम एग्जाम प्रणाली स्वीकार किया है। मतलब यह परीक्षा पूरी तरह उनके स्कूलों द्वारा संचालित की जाएगी। स्कूल ही प्रश्नपत्र तैयार करेंगे। समय सारिणी तय करेंगे। परीक्षा का केंद्र भी उसी स्कूल में बनेगा और कॉपी का मूल्यांकन कर परिणाम भी संबंधित स्कूल ही जारी करेगा।

स्कूल नहीं खुले, परीक्षार्थियों के सामने चुनौती

चालू शिक्षा सत्र में स्कूल नहीं खुल सके थे। बच्चों की अधिकतर पढ़ाई घरों में स्वाध्यायी के तौर पर अथवा ऑनलाइन माध्यमों से हुई है। शिक्षा विभाग ने पढ़ाई तुहर दुआर पोर्टल के जरिए इस समस्या को सुलझाने की कोशिश की है, लेकिन वह दूरदराज के और आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के बच्चों तक नहीं पहुंच पाया। इस परीक्षा में विद्यार्थियों के सामने ऐसी कई चुनौतियां होने वाली हैं। वहीं, कॉपियों के मूल्यांकन की भी चुनौतियां रहेंगी।

एक नज़र में जानिए कि कोरोना काल के बाद पहली बार हो रही परीक्षा में आपके लिए क्या नया होगा

  • इस साल एक भी कक्षा नहीं लगी पर परीक्षा आफलाइन हो रही है। ऐसा आज तक नहीं हुआ था।
  • जहां से परीक्षार्थी ने फार्म भरा है, वहां सेंटर रहेगा। करीब 6500 स्कूल। पिछली बार ढाई हजार सेंटर थे। यह व्यवस्था पहली बार हुई है ताकि छात्रों को सुविधा मिल सके। सोशल डिस्टेंसिंग से बचाने के लिए ज्यादा लोगों को शामिल किया जा सके।
  • पहले हर बेंच में परीक्षार्थी बैठते थे, लेकिन इस बार एक बेंच को छोड़कर बैठक व्यवस्था होगी। एक बेंच पर एक ही परीक्षार्थी होगा। एक कमरे में पहले औसतन 40 लोग बैठते थे, तो इस बार 20 लोग ही बैठेंगे।
  • इस बार प्रेक्टिकल में बाहर से एक्सटर्नल नहीं आएंगे। स्कूल में ही प्रैक्टिकल होगा और वहीं के शिक्षक नंबर देंगे।
  • गर्मी में परीक्षा होगी, छत्तीसगढ़ में उस समय तापमान 40 डिग्री से ज्यादा ही रहता है। इसी कारण दसवीं और बारहवीं की परीक्षा अलग-अलग महीने में हो रही है। ताकि भीड़ न हो।
  • हर परीक्षा के बाद क्लासरूम को सैनेटाइज़ करने का विचार है।
  • पिछली बार 9वीं और 11वीं में सबको जनरल प्रमोशन मिल गया था, इस कारण इस बार दसवीं और बारहवीं में छात्रों की संख्या बढ़ गई है। पहले करीब 6लाख 60 हजार छात्र थे, जो इस बार आठ लाख से ज्यादा हैं।
  • अप्रैल में जेईई की परीक्षा भी होनी है। इसमें बारहवीं के बच्चे बैठते हैं। दोनों परीक्षा की तैयारी में दिक्कत हो सकती है, इस कारण भी बारहवीं की परीक्षा दसवीं के बाद मई में होगी।
  • चूंकि सिलेबस में 40 प्रतिशत की कटौती की गई थी, इस तरह 60 प्रतिशत हिस्से से ही सवाल आएंगे।
  • असाइनमेंट के रूप में छात्रों को अतिरिक्त नंबर दिए जाएंगे। हर महीने छात्रों को असाइनमेंट दिए जा रहे हैं, जिन्होंने इसे पूरा किया होगा, उन्हें नंबर मिलेंगे। यह भी पहली बार हो रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

और पढ़ें