ये छात्र हैं, मजदूर नहीं:पोटाली आश्रम के 19 बच्चों से अपने खेत में करा रहे थे मजदूरी, अधीक्षक निलंबित

दंतेवाड़ा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पोटाली के आश्रम अधीक्षक लिंगाराम मरकाम के खेतों में उनके ही आश्रम के 19 छात्र मजदूरी करते मिले। वीडियो वायरल होते ही मामले ने तूल पकड़ा तो अधीक्षक को सस्पेंड भी कर कटेकल्याण बीईओ ऑफिस में अटैच कर दिया गया। फूलपाड़ आश्रम अधीक्षक रविंद्र साेरी को पोटाली आश्रम का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।

रविवार को आश्रम के 19 बच्चे पालनार से 10 किमी दूर अधीक्षक लिंगाराम के गांव समेली में खेत में धान की कटाई कर रहे थे। इस बीच समाज सेविका सोनी सोरी भी पहुंचीं और बच्चों से पूछताछ की। मामला कलेक्टर दीपक सोनी के संज्ञान में आते ही उन्होंने अफसरों को जांच के निर्देश दिए।

अफसर बाेले- बच्चों को काम करने से रोकना था

निलंबित अधीक्षक
निलंबित अधीक्षक

बच्चों ने कहा कि रविवार को छुट्टी थी। अधीक्षक अपने घर समेली जा रहे थे। हम अपनी मर्जी से गए और आधे घंटे धान कटाई भी की। सहायक आयुक्त डॉ. आनंदजी सिंह ने बताया कि इस तरह बच्चों का अधीक्षक के खेत में काम करना गलत है।

पति-पत्नी दोनों पद से हों बर्खास्त: कांग्रेस

कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष अवधेश सिंह गौतम, छविंद्र कर्मा ने आश्रम अधीक्षक व उनकी पत्नी को पद से बर्खास्त करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि आश्रम अधीक्षक और भाजपा की जिला पंचायत सदस्य अपने पद का दुरुपयोग कर रहे हैं।

दंतेवाड़ा में पहले भी आ चुके हैं ऐसे मामले
यह पहली बार नहीं है जब आश्रम अधीक्षकों द्वारा बच्चों से निजी काम करवाए जा रहे हैं। इसके पहले भी दंतेवाड़ा में एक अधीक्षक द्वारा अपने घर में काम करवाने सहित अन्य मामले सामने आए थे। सहायक आयुक्त डॉ. आनंदजी सिंह ने कहा कि अगर ऐसा करते हैं तो कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...