तेंदुए के बाद अब भालू का आतंक:भालुओं ने महिला पर किया हमला, चेहरे और पीठ से नोंच ले गए मांस; धान की रोपाई के लिए जा रही थी खेत

पेंड्रा4 महीने पहले
इससे कुछ दिन पहले इलाके में तेंदुए के आतंक से ग्रामीणों में डर था। किसी तरह हिम्मत जुटाकर उन्होंने अपने खेतों में जाना शुरू किया था, लेकिन अब भालुओं का हमला हो गया।

छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) जिले में भालुओं ने सुबह एक महिला पर हमला कर दिया। इस दौरान भालुओं ने महिला के चेहरे और पीठ से मांस नोच लिया। महिला ने मदद के लिए शोर मचाया, तो आसपास के लोग पहुंचे। इसके बाद उन्होंने मिलकर भालुओं को भगाया। सूचना मिलने के बाद एंबुलेंस से महिला को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। घटना सेमरदर्री पंचायत की है।

जानकारी के मुताबिक, सेमरदर्री के बिलाईडांड निवासी महिला सेम कुंवर धान की रोपाई करने के लिए खेत जा रही थी। इसी दौरान रास्ते में दो भालुओं और उनके बच्चों ने महिला पर हमला कर दिया। महिला ने मदद के लिए शोर मचाया, लेकिन तब तक भालुओं ने उसके पीठ और चेहरे पर वार कर दिया था। आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और काफी मशक्कत के बाद भालुओं को भगाया। महिला को मरवाही स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है।

आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और काफी मशक्कत के बाद भालुओं को भगाया। महिला को मरवाही स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है।
आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और काफी मशक्कत के बाद भालुओं को भगाया। महिला को मरवाही स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है।

इलाके में तेंदुए के आतंक से लोगों में डर था, अब भालू पहुंचे

इससे कुछ दिन पहले इलाके में तेंदुए के आतंक से ग्रामीणों में डर था। किसी तरह हिम्मत जुटाकर उन्होंने अपने खेतों में जाना शुरू किया था, लेकिन अब भालुओं का हमला हो गया। इसके बाद से ग्रामीण एक बार फिर डर के साये में हैं। क्षेत्र में जंगली जानवरों का खतरा लगातार बना हुआ है। इन सबके बीच मरवाही वनमंडल की सुरक्षा व्यवस्था नाकाफी साबित हो रही है।

जिले में इसी साल भालुओं के कई हमले हुए

  • जिले में इस साल लगातार भालुओं का हमला हो रहा है। बीच में दो महीने राहत थी, लेकिन फिर खतरा बढ़ गया।
  • 12 मई : पसान रेंज सरमा ग्राम पंचायत में भालू ने एक ग्रामीण पर हमला कर दिया। इस दौरान भालू ने ग्रामीण के सिर और चेहरे से मांस नोच लिया था। ग्रामीण की मदद से उसे बचाया जा सका।
  • 23 मार्च : भालू मरवाही स्थित इंदिरा गार्डन और उसके आसपास के क्षेत्र में पहुंच गया था।
  • 30 जनवरी : गौरेला क्षेत्र में दो देवरानी-जेठानी पर हमला कर दिया था। इस दौरान भालू ने एक महिला की आंख निकाल ली, जबकि दूसरे की पीठ पर वार किया।

इसके अलावा दिसंबर में गौरेला क्षेत्र के खोडरी में एक वृद्ध को मार दिया था। वहीं एक दुर्लभ प्रजाति के सफेद भालू की मौत भी हो चुकी है। दिसंबर माह में वह कुएं में गिर पड़ा था। लोगों ने देखा भी, लेकिन बाहर मादा भालू को देख कोई उसे बचाने की हिम्मत नहीं जुटा सका।

खबरें और भी हैं...