पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Chhattisgarh Bijapur Encounter; Naxalites (Maoist) Issued Press Note, Says Government Responsible For Death Of Soldiers

बीजापुर एनकाउंटर पर बोले नक्सली:किस-किस से बदला लेंगे, जवानों की मौत के लिए सरकार जिम्मेदार; प्रेसनोट जारी कर कहा- जन आंदोलन में जवान साथ आएं

बीजापुर/दंतेवाड़ा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों की दक्षिण सब जोनल ब्यूरो की ओर से जारी पर्चे में जवानों से अपील की गई है कि वह उनके जन आंदोलन में साथ आएं। - Dainik Bhaskar
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों की दक्षिण सब जोनल ब्यूरो की ओर से जारी पर्चे में जवानों से अपील की गई है कि वह उनके जन आंदोलन में साथ आएं।
  • केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बस्तर दौरे के दौरान बदला लेने वाले बयान को नक्सलियों ने बताया असंवैधानिक
  • 25 अप्रैल तक जन आंदोलन के समर्थन में प्रचार करने और 26 अप्रैल को भारत बंद करने का भी ऐलान

छत्तीसगढ़ के बस्तर दौरे के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बदला लेने वाले बयान को नक्सलियों ने असंवैधानिक बताया है। नक्सलियों की ओर से कहा गया है कि किस-किस से बदला लेंगे। जवानों की शहादत के लिए नक्सलियों ने केंद्र और राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं दूसरी ओर दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने प्रेस नोट जारी कर जन आंदोलन में जवानों से साथ आने की अपील की है।

नक्सलियों की केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जवानों की मौत के लिए केंद्र, राज्य और नार्थ ब्लॉक जिम्मेदार है। विभिन्न मुठभेड़ों में शहीद जवानों के परिजनों के प्रति संवेदना जताते हुए कहा, संगठन की लड़ाई जवानों से नहीं है। सरकार की ओर से हथियार उठाने की वजह से संगठन को उनसे लड़ना पड़ता है। नक्सलियों ने कहा, पिछले चार महीनों में देश के अलग-अलग हिस्सों में 28 माओवादी मारे गए हैं।

पर्चा जारी किया, लिखा- प्रहार हमले में शामिल न हों, उनके साथ आएं
दूसरी ओर दंतेवाड़ा में नक्सलियों की दक्षिण सब जोनल ब्यूरो की ओर से जारी पर्चे में जवानों से अपील की गई है कि वह उनके जन आंदोलन में साथ आएं। कहा है कि वह सरकार की ओर से चलाए जा रहे ऑपरेशन प्रहार का हिस्सा न बने। उनके अफसर दमनकारी नीतियां चला रहे हैं। कहा गया है कि उनका वेतन जनता का खून-पसीना है। यह प्रधानमंत्री मोदी, CM भूपेश बघेल, सुरक्षा सलाहकार विजय कुमार और IG पी. सुंदरराज का पैसा नहीं है।

जय जवान-जय किसान का नारा धोखा, किसान आंदोलन का भी जिक्र
नक्सलियों ने अपने पर्चे में चल रहे किसान आंदोलन का भी जिक्र किया है। लिखा है जय जवान- जय किसान का नारा धोखा है। 75 साल में यह साबित हो गया है। दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा है कि 300 किसानों की मौत हो चुकी है। चार महीने में आंदोलन थमा नहीं है। किसान बेटे होने के नाते आप लोग समस्याओं को समझते हैं। साथ ही लिखा है- 25 अप्रैल तक जन आंदोलन के समर्थन में प्रचार किया जाएगा और 26 अप्रैल को भारत बंद करेंगे।

खबरें और भी हैं...