पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिलासपुर के सरकारी स्कूल का कमाल:इंटरनेशनल एस्टेरॉयड सर्च कैंपेन में हुआ सिलेक्शन, ढूंढ निकाला तो स्कूल टीम के नाम पर होगा एस्टेरॉयड का नाम; CG के एकलौते स्कूल का हुआ चयन

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
IASC ने इसके लिए देशभर से 10 टीम का सिलेक्शन किया है। जिसमें बिलासपुर के सरकारी स्कूल का नंबर 8वे नंबर पर है। - Dainik Bhaskar
IASC ने इसके लिए देशभर से 10 टीम का सिलेक्शन किया है। जिसमें बिलासपुर के सरकारी स्कूल का नंबर 8वे नंबर पर है।

छत्तीसगढ़ में बिलासपुर के एक सरकारी स्कूल ने कमाल कर दिखाया है। यहां के दयालबंद के मल्टीपर्पज गवर्नमेंट स्कूल का चयन इंटरनेशनल एस्टेरॉयड सर्च कैंपेन (IASC) में हुआ है। छत्तीसगढ़ से यह इकलौता स्कूल है, जिसका इस प्रोग्राम में चयन हुआ है। IASC ने इसके लिए देशभर से 10 टीम का सिलेक्शन किया है। जिसमें बिलासपुर के सरकारी स्कूल का नंबर 8वे नंबर पर है। यदी यह टीम इस प्रोग्राम के तहत एस्टेरॉयड ढूंढ निकाल लेती है तो उस एस्टेरॉयड का नाम स्कूल की टीम के नाम से होगा।

2 अगस्त से 27 अगस्त तक चलेगा प्रोग्राम

स्कूल के साइंस लैब प्रभारी और टीम के प्रभारी डॉ.धनंजय पांडे ने बताया कि यह प्रोग्राम 2 अगस्त से 27 अगस्त तक चलेगा। जिसके लिए लगातार ट्रेनिंग उनकी चल रही है। ट्रेनिंग के लिए स्कूल को एस्ट्रोमेट्रिका नाम का सॉफ्टवेयर दिया गया है। डॉ.धनंजय पांडे ने बताया कि प्रोग्राम के दौरान उनकी टीम, जिसमें स्कूल के बच्चे शामिल हैं। इस प्रोग्राम के तहत IASC अपने हेवी टेलीस्कोप से ली गई अंतरिक्ष की तस्वीर भेजेगा। इससे टीम को नया एस्टेरॉयड खोजना होगा। आगे उन्होंने बताया की कामयाब होने पर उस एस्टेरॉयड का नाम उनकी टीम के नाम पर रख दिया जायेगा। स्कूल की टीम का नाम अटल टींकरिंग लैब है।

स्कूल के लैब में इस तरह से कई प्रयोग किए जाते हैं।
स्कूल के लैब में इस तरह से कई प्रयोग किए जाते हैं।

IASC खगोली घटना क बारे में करता है जागरुक

वहीं स्कूल के प्रिंसिपल डॉ. आर.के गौरहा ने बताया कि IASC बच्चों को खगोली घटना के बारे में जागरुकता पैदा करता है। जिसमें प्रदेश में हमारा ही एक ऐसा स्कूल है, जो इस संस्था से जुड़ा हुआ है। जिसके अंर्तगत हमें ट्रेनिंग दे गई है। आने वाले 2 अगस्त से हम बच्चों को खगोली घटना के बारे में बताएंगे और टेलिस्कोप से खगोली घटना के बारे में जानकारी भी देंगे।

हमेशा नए खोज के लिए जाना जाता है स्कूल, मिले है कई अवॉर्ड्स

इस स्कूल ने कोरोना काल में नए नए खोज और एक्सपेरिमेंट कर कई बार देश में छत्तीसगढ़ का नाम रोशन किया है। इससे पहले केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय नेदेशव्यापी लॉकडाउन के दौरान नवाचार करने वाले देशभर के साढ़े पांच हजार एटीएल में टॉप 100 को सूचीबद्ध किया था। जिसमें बिलासपुर के गवर्नमेंट हायर सेकेंडरी स्कूल की एटीएल को शीर्ष पर रखते हुए प्लेटिनम अवॉर्ड से नामित किया गया था।

खबरें और भी हैं...