धमतरी / सीएम हाउस के सामने आत्महत्या की कोशिश करने वाले युवक की पत्नी बोली- मेरे पति को कोई मानसिक परेशानी नहीं, मामले में एसडीएम जांच करेंगे

धमतरी जिले में युवक की पत्नी ने बताया कि पैसों की तंगी से परिवार जूझ रहा था। युवक की दो बेटियां भी हैं।
X

  • राज्य सरकार ने युवक को मानसिक रूप से असंतुलित बताया था, युवक के पास जमीन और रोजगार के दावे भी किए गए थे
  • परिवार वालों ने बताया कि घर पर दो दिनों से राशन नहीं था, पैसों की तंगी की वजह से युवक ने आत्मघाती कदम उठाया

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 06:30 AM IST

धमतरी.

जिले का तेलिनसत्ती गांव चर्चा में है। यहां रहने वाले एक युवक हरदेव सिन्हा ने सोमवार को रायपुर स्थित मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्महत्या की कोशिश की। खुद को आग लगाए जाने से युवक की हालत गंभीर है। युवक के परिजन कई तरह की बातें बता रहे हैं, जो हैरान करने वाली हैं। सरकार ने कहा था कि युवक की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। लेकिन, युवक की पत्नी ने बताया कि उसकी दिमागी हालत ठीक है। पैसों की तंगी और गरीबी की वजह से उसने खुद को आग लगाई। पड़ोस के लोगों से राशन लेकर परिवार गुजारा कर रहा था। 

घटना के पीछे साजिश का शक

तस्वीर रायपुर की है। सीएम हाउस के बाहर धमतरी के रहने वाला हरदेव इस तरह खुद को आग लगाकर गिर पड़ा, सुरक्षाकर्मियों ने उसकी जान बचाई।
तस्वीर रायपुर की है। सीएम हाउस के बाहर धमतरी के रहने वाला हरदेव इस तरह खुद को आग लगाकर गिर पड़ा था। सुरक्षाकर्मियों ने उसकी जान बचाई।

धमतरी के कलेक्टर ने मामले में अनुविभागीय विभागीय दंडाधिकारी (एसडीएम) को जांच का जिम्मा सौंपा है। जांच के लिए एक माह की समय-सीमा निर्धारित की गई है। अब अधिकारी ये देखेंगे कि यह घटना क्यों और किन परिस्थितियों में हुई। घटना के पहले युवक संबंधित किन-किन लोगों से मिला। घटना के लिए क्या किसी ने उसे उकसाया, वह रायपुर कैसे आया, क्यों बसें नहीं चल रहीं, क्या आत्मदाह का प्रयास के पूर्व इसकी लिखित सूचना किसी कार्यालय को दी गई थी, यदि उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं था तो इलाज के प्रयास परिवार वालों ने क्यों नहीं किए, युवक का राशन कार्ड में नाम है कि नहीं, क्या उन्हें दो माह में राशन मिला। 

यह पूरा मामला 

तस्वीर सीएम हाउस के सामने आत्मदाह करने वाले हरदेव सिन्हा की है। डॉक्टर के मुताबिक इसकी स्थिति अब भी गंभीर है।
तस्वीर सीएम हाउस के सामने आत्मदाह करने वाले हरदेव सिन्हा की है। डॉक्टर के मुताबिक इसकी स्थिति अब भी गंभीर है।

हरदेव रायपुर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मिलने पहुंचा था। सुरक्षाकर्मियों ने उसे रोक लिया। इस पर हरदेव ने खुद को जला लिया। सुरक्षाकर्मियों ने झुलसता देखा तो आग बुझाने का प्रयास किया। एंबुलेंस से उसे अस्पताल भेजा गया। पचपेड़ी नाका स्थित एक प्राइवेट बर्न सेंटर में उसका इलाज जारी है। 60 प्रतिशत का वह झुलस चुका है। सोमवार को इस मामले में सरकार पक्ष आया। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा है कि किसी को भी भावावेश में आकर ऐसा नकारात्मक कदम नहीं उठाना चाहिए। हरदेव सिन्हा पिछले 2 साल से मानसिक रूप से अस्वस्थ है। हरदेव की गांव में दो एकड़ कृषि भूमि है और वह 9वीं तक पढ़ा है। हरदेव का रोजगार गारंटी में जॉब कार्ड है और पिछले माह उसने 11 दिन का काम भी किया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना