CG में कांग्रेस नेता और उनकी पत्नी की हत्या:आरोपियों ने दोनों के चेहरे तकिए से दबाकर मारा, आपसी रंजिश का संदेह, एक ड्राइवर हिरासत में

रायगढ़3 महीने पहले
रायगढ़ में कांग्रेस के सीनियर नेता मदन मित्तल और उनकी पत्नी अंजूदेवी मित्तल की हत्या कर दी गई है।

रायगढ़ जिले के लैलूंगा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और बड़े व्यापारी मदन मित्तल और उनकी पत्नी अंजू देवी मित्तल की हत्या कर दी गई है। दोनों की लाशें गुरुवार सुबह उनके कमरे में बिस्तर पर पड़ी हुई थीं। पुलिस के मुताबिक दोनों के मुंह पर तकिया रखकर उनकी हत्या की गई है। कमरे में लूटपाट के कोई निशान नहीं मिले हैं इसलिए माना जा रहा है कि हत्या आपसी रंजिश के चलते हुई होगी। दो दिन पहले ही मदन का मोबाइल भी घर से चोरी हुआ था। इसकी शिकायत भी थाने में दर्ज कराई गई थी। पुलिस ने एक ड्राइवर को हिरासत में लिया है।

लैलूंगा में रहने वाले मदन मित्तल (55) बुधवार रात 10 बजे तक शहर में अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर दुर्गा पूजा का चंदा इंकट्‌ठा कर रहे थे। घर वालों ने बताया कि मदन रात को करीब 10.30 बजे घर पहुंचे थे। इसके बाद उनकी बहू ऋचा ने उन्हें खाना खिलाया था। खाने खिलाने के बाद ऋचा रात 11 बजे ऊपर अपने कमरे में चली गई थी। मदन और उनकी पत्नी नीचे बने कमरों में रहते हैं, जबकि उनका बेटा रोहित उसकी पत्नी और दो बच्चे ऊपर की मंजिल में रहते हैं।

दोनों की लाश गुरुवार सुबह इस तरह से बिस्तर में पड़ी हुई मिली है।
दोनों की लाश गुरुवार सुबह इस तरह से बिस्तर में पड़ी हुई मिली है।

सुबह बेटा नीचे आया तो दिखीं लाशें
सुबह ऋचा और रोहित सोकर उठे। सबसे पहले रोहित नीचे आया। यहां उन्होंने अपने मम्मी-पापा के रूम का दरवाजा खुला देखा। अमूमन दरवाजा बंद रहता है इसलिए उन्हें कुछ अजीब लगा। वह कमरे के अंदर गए। वहां मदन और उनकी पत्नी अंजू देवी मित्तल(54) की लाशें बिस्तर में पड़ी हुई थी। यह देखकर रोहित चीखते हुए बाहर निकले। उन्होंने अपनी पत्नी और पड़ोसियों को आवाज दी। फिर इसकी सूचना लैलूंगा पुलिस को दी गई। लैलूंगा पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई है। डॉग स्क्वायड की टीम को भी बुलाया गया। घटनास्थल से डॉग दौड़ते हुए गायत्री मंदिर तक पहुंचे। इसके बाद वे आगे नहीं गए।

आरोपी इसी खिड़की से घर के अंदर घुसे थे।
आरोपी इसी खिड़की से घर के अंदर घुसे थे।

पीछे की खिड़की से घुसे हत्यारे

पुलिस ने बताया है कि अभी यह पता नहीं चल सका है कि वारदात को किसने अंजाम दिया है। घटनास्थल पर कोई सबूत भी मिलने की बात पुलिस नहीं कह रही है। अधिकारियों का कहना है कि हम मामले की जांच में जुटे हुए हैं। पुलिस ने बताया है कि आरोपी घर के पीछे के दरवाजे के ऊपर लगी छोटी खिड़की को तोड़कर अंदर घुसे थे। इसके बाद वारदात को देर रात ही् अंजाम दिया गया है। यह भी समझा जा रहा है कि एक आरोपी खिड़की से अंदर घुसा और उसने पीछे का दरवाजा खोल दिया। इसके बाद दूसरे आरोपी भी अंदर घुसे। जिस तरह से पति-पत्नी की मुंह पर तकिया रखकर हत्या की गई है। उससे लगता है कि आरोपी दो से भी ज्यादा होंगे। कमरे में किसी तरह के संघर्ष के भी निशान नहीं मिले। मदन मित्तल की मौत से पूरे लैलूंगा में शोक की लहर है। शहर के सभी व्यापारियों ने गुरुवार को अपनी दुकानें बंद रखी हैं।

एसपी,एडिशनल एसपी, एसडीओपी मौके पर पहुंचे हुए हैं।
एसपी,एडिशनल एसपी, एसडीओपी मौके पर पहुंचे हुए हैं।

सारा सामान सही सलामत, एक ड्राइवर हिरासत में

मदन मित्तल शहर के सबसे बड़े व्यापारियों में से एक हैं। उनकी राइस मिल तो है ही। दूसरे व्यापार भी हैं। पहले समझा जा रहा था, कि यह वारदात लूट के लिए की गई है। लेकिन मदन मित्तल के बेटे और दूसरे रिश्तेदारों ने किसी भी कीमती चीज या पैसों के चोरी नहीं होने की बात कही। इससे पुलिस का शक अब आपसी रंजिश की ओर है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक मित्तल के राइस मिल में लगातार आने वाले एक ड्राइवर को पूछताछ के लिए बैठाया गया है। उस पर संदेह है। पुलिस, मित्तल के दूसरे कर्मचारियों की पड़ताल भी कर रही है।

आईजी डांगी खुद करेंगे जांच

बिलासपुर रेंज के आईजी रतनलाल डांगी रायगढ़ पहुंच रहे हैं। वे खुद इस दोहरे हत्याकांड के जांच की कमान संभालेंगे। एसपी अभिषेक मीणा सुबह से घटनास्थल पर हैं। लैलूंगा के आसपास के थानेदारों को भी यहां बुला लिया गया है। टीम कुछ स्थानों पर रवाना भी की गई है। मदन मित्तल की सामाजिक, राजनीतिक स्थिति देखते हुए पुलिस जांच में कोई चूक नहीं करना चाहती। पुलिस अधिकारियों का मानना है कि जल्दी ही आरोपी गिरफ्त में होंगे।

मदन को बनाया गया था एल्डरमैन
लैलूंगा क्षेत्र में मदन मित्तल कांग्रेस के सीनियर नेताओं में से थे। उनकी इस क्षेत्र में जमीनी स्तर पर काफी अच्छी पकड़ थी। यही वजह है कि कांग्रेस ने उन्हें हाल में एल्डरमैन बनाया था। मदन ने 8 सितंबर को ही एल्डरमैन पद की शपथ ली थी। मदन कांग्रेस नेता के अलावा शहर के अग्रवाल समाज के पूर्व अध्यक्ष भी रहे चुके हैं। उनका परिवार शहर का सबसे बड़ा परिवार है।

खबरें और भी हैं...