पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

15 साल के बेटे के सामने पिता को मार डाला:बेटा चीखकर कहता रहा- बचाओ..बचाओ, पापा भागो हाथी आ रहा है; मगर पिता भाग न सका, हाथी ने सूंड से उठाकर पटका, घटनास्थल पर ही तोड़ा दम

महासमुंद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

15 साल के जयलाल की आंखों ने शुक्रवार की शाम जो देखा शायद ही कभी भूल पाए। जंगल से हाथी की शक्ल में आई आफत ने परिवार को तबाह कर दिया। बेटे ने अपनी आंखों के सामने पिता की मौत देखी। गुस्साया जंगली हाथी उसके पिता को पैरों से रौंदने की कोशिश कर रहा था, सूंड से उठाकर पटक रहा था। खेत के कीचड में किसी चीज की तरह जयलाल के पिता के शरीर पर हाथी अपनी खीझ निकाल रहा था।

खेत की मिट्‌टी में शव दब गया था।
खेत की मिट्‌टी में शव दब गया था।

हड़बड़ा के पास के पेड़ पर अपनी जान बचाने के लिए चढ़ा जयलाल बेबसी में चीख रहा था, बचाओ...बचाओ, कोई है, यहां हाथी आ गया है कोई तो आओ, पापा भागो..। बेटे ने गांव के लोगों को फोन किया तब लोग भागे-भागे खेत की ओर आए। मगर जयलाल के पिता की जिंदगी बच न सकी। ग्रामीणों में से किसी ने मशाल तो किसी ने शोर करके हाथी को खदेड़ा। हाथी ने उसके शव को पैरों से दबाया और फिर जंगल की तरफ भाग गया।

खेत में दवा छिड़कने गए थे पिता-पुत्र
ये घटना महासमुंद के ग्राम परसाडीह में हुई। शाम को 6 से 6.30 बजे के बीच हुए इस हादसे के बाद अब गांव में मातम है। मामले में DFO पंकज राजपूत ने बताया हाथी के हमले से एक ग्रामीण की मौत की जानकारी मिली है। उसकी बॉडी रिकवर कर ली गई है। अब मौके पर वन विभाग की टीम पहुंच चुकी है। हाथी के लोकेशन को समझकर दूसरे गांव के लोगों को भी आगाह किया जा रहा है।

ग्रामीणों ने ही शव को बाहर निकाला।
ग्रामीणों ने ही शव को बाहर निकाला।

अब तक की जांच में ये बात सामने आई है कि 45 साल का मनीराम अपने 15 साल के बेटे जयलाल के साथ खेत में दवा का छिड़काव करने गया हुआ था। बेटा खेत के मेढ़ पर बैठा हुआ था और मनीराम खेत में दवा छिड़क रहा था। इसी दौरान जयलाल ने एक दंतैल हाथी को खेत की ओर बढ़ते हुए देखा और अपने पिता को आवाज लगाई। बेटे की आवाज सुनकर मनीराम ने भागने की कोशिश की। लेकिन पीठ पर लदे 15 लीटर दवा और पानी से भरे स्पेयर के भार के चलते वो तेजी से भाग नहीं पाया और दंतैल ने उसे पटककर मार डाला।

तस्वीर महासमुंद की है। इसी हाथी ने ग्रामीण की जान ली भीड़ ने इसे जंगल की तरफ खदेड़ा।
तस्वीर महासमुंद की है। इसी हाथी ने ग्रामीण की जान ली भीड़ ने इसे जंगल की तरफ खदेड़ा।

महासमुंद में तीन साल में हाथियों ने 13 लोगों को मारा
महासमुंद के शहरी और ग्रामीण इलाकों में आए दिन हाथियों की वजह से दहशत का माहौल रहता है। इस इलाके में हाथी अब भी कहीं न कहीं गांव में घुस आते हैं। अक्सर ग्रामीण या वन विभाग की टीमें इन्हें जंगलों में खदेड़ती है। पिछले महीने हाइवे पर हाथी आ गए थे और महासमुंद के शहरी इलाकों में कुछ लोगों को घायल कर दिया था। वन विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जिले में पिछले तीन सालों में 13 लोगों की जान जा चुकी है। सर्वाधिक 7 मौतें वर्ष 2019-20 में हुई थी। वहीं 2020-21 में 4 और 2021-22 में दो मौतें हुई है। जिले में हाथियों के हमले से घायलों की संख्या 110 है। फसल और संपत्ति के नुकसान के बदले मुआवजा देने के 5254 मामले वन विभाग ने दर्ज किए हैं।

खबरें और भी हैं...