पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गिरफ्त में शातिर ठग:पुलिस में नौकरी दिलाने के नाम पर 4 युवकों से 6.5 लाख रुपए ठगे, 3 जिलों के 30 बेरोजगारों को भी बनाया शिकार

गरियाबंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
SP सुखनंदन राठौर ने बताया कि युवाओं को दोनों आरोपी तहसीलदार, पुलिस और फॉरेस्ट विभाग में नौकरी लगवाने का झांसा देते थे। जांजगीर पुलिस ने आरोपियों को नकली नोट छापने के मामले में गिरफ्तार किया था। - Dainik Bhaskar
SP सुखनंदन राठौर ने बताया कि युवाओं को दोनों आरोपी तहसीलदार, पुलिस और फॉरेस्ट विभाग में नौकरी लगवाने का झांसा देते थे। जांजगीर पुलिस ने आरोपियों को नकली नोट छापने के मामले में गिरफ्तार किया था।

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद में पुलिस ने दो शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों ने पुलिस में नौकरी दिलाने के नाम पर 4 युवकों से साढ़े छह लाखा रुपए से ज्यादा की ठगी की। पूछताछ में पता चला कि यह ठग 3 जिलों में 30 से ज्यादा बेरोजगार युवाओं को अपना शिकार बना चुके हैं। वहीं इससे पहले भी जांजगीर जिला पुलिस ने दोनों को नकली नोटों के मामले में गिरफ्तार किया था। मामला छुरा थाना क्षेत्र का है।

पुलिस ने महासमुंद निवासी सबास खान और गरियाबंद निवासी मनोज साहू को गिरफ्तार किया है। दोनों आरेापियों ने छुरा के रहने वाले 4 युवकों को झांसा दिया कि वे मंत्रालय में क्लर्क हैं। उनकी अफसरों से भी ऊंची सेटिंग हैं। युवकों से कहा कि वे उनकी पुलिस और फॉरेस्ट विभाग में अच्छी नौकरी लगवा सकते हैं। उनकी बातों में आकर युवकों ने रुपए दे दिए। काफी समय बीतने के बाद भी जब नौकरी नहीं लगी तो युवकों ने FIR दर्ज करा दी।

पहले भी फ्रॉड केस में जा चुके हैं जेल, छापते थे नकली नोट
SP सुखनंदन राठौर ने बताया कि युवाओं को दोनों आरोपी तहसीलदार, पुलिस और फॉरेस्ट विभाग में नौकरी लगवाने का झांसा देते थे। इससे पहले भी नौकरी के नाम पर ठगी करने में महासमुंद में पकड़े जा चुके हैं। वहीं जांजगीर पुलिस ने आरोपियों को नकली नोट छापने के मामले में गिरफ्तार किया था। दोनों ने कई और भी लोगों को ठगी का शिकार बनाया है। फिलहाल दोनों जिलों की पुलिस से संपर्क कर जानकारी जुटाई जा रही है।

खबरें और भी हैं...