पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लॉकडाउन में नशे की खेप:10 लाख रुपए की कफ सिरप, टैबलेट और कैप्सूल के साथ 5 गिरफ्तार, इनमें 4 खरीदार, एक मिला संक्रमित; झारखंड से लाकर बेचता था

अंबिकापुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अंबिकापुर जिला पुलिस की नशे के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। पुलिस का कहना है कि आरोपी के तार झारखंड के तस्करों से भी जुड़े हैं। - Dainik Bhaskar
अंबिकापुर जिला पुलिस की नशे के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। पुलिस का कहना है कि आरोपी के तार झारखंड के तस्करों से भी जुड़े हैं।

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में पुलिस ने शुक्रवार रात एक घर में छापा मारकर भारी मात्रा में प्रतिबंधित दवाइयां बरामद की हैं। इनका इस्तेमाल नशे के लिए किया जाता था। पुलिस ने इस मामले में 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें 4 खरीदार है। जांच के दौरान एक आरोपी कोरोना संक्रमित मिला है। बरामद माल की कीमत करीब 10 लाख रुपए बताई जा रही है। यह कार्रवाई कोतवाली पुलिस और स्पेशल सेल की टीम ने की है।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को सूचना मिली थी कि शहर के मोमिनपारा निवासी याकूब खान अपने घर के पास नशीली दवाइयां बेच रहा है। इस पर छापा मारकर याकूब सहित खरीदार मायापुर निवासी मो. अहमद कुरैशी, विकास कश्यप, हरसागर तालाब निवासी अरमान हुसैन व महामाया रोड निवासी हरविंदर सिंह को पकड़ लिया। याकूब की निशानदेही पर पुलिस कमरे में गई तो नशे का जखीरा देख हैरान हो गई।

पार्सल से मंगवाई जाती थी नशे की खेप, लॉकडाउन में भी जारी था धंधा
पुलिस को कमरे से एल्जीलम के 28500 टैबलेट, स्पास्मो प्रॉक्सीवॉन प्लस के 11088 और आरसी कफ सिरप की 252 शीशियां बरामद हुई हैं। इनकी कीमत करीब 10 लाख रुपए बताई जा रही है। जिला पुलिस की नशे के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। पुलिस का कहना है कि आरोपी के तार झारखंड के तस्करों से भी जुड़े हैं। कभी खुद जाकर, तो कभी पार्सल के जरिए नशे की दवाइयां मंगा कर सप्लाई करता था। लॉकडॉउन में घर से धंधा कर रहा था।

मुख्य आरोपी को एक साल पहले भी किया था गिरफ्तार
गांधी नगर थाना पुलिस ने करीब एक साल पहले भी नशे का सामान बेचते हुए याकूब खान को गिरफ्तार किया था। तब NDPS एक्ट में उसे जेल भेज दिया गया है। पुलिस ने बताया कि जेल में कुछ दिन रहने बाद वह जमानत पर बाहर आ गया था। इसके बाद से फिर प्रतिबंधित दवाइयां बेचने लगा था। पुलिस इसके बाद से ही उसके ऊपर नजर रख रही थी। फिलहाल पुलिस उसके सप्लायर का भी पता लगाने का प्रयास कर रही है।

खबरें और भी हैं...