कोरबा में सख्ती:लॉकडाउन में हर किसी को बेच रहा था पेट्रोल और डीजल, 3 दिन के लिए पंप सील; कोविड मरीजों के लिए अब 10 अस्पतालों में उपचार

​​​​​​​कोरबा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छत्तीसगढ़ के कोरबा में लॉकडाउन के दौरान कलेक्टर खुद सड़क पर निकलीं। इस दौरान उन्होंने लापरवाही पर अफसरों को फटकार लगाई। - Dainik Bhaskar
छत्तीसगढ़ के कोरबा में लॉकडाउन के दौरान कलेक्टर खुद सड़क पर निकलीं। इस दौरान उन्होंने लापरवाही पर अफसरों को फटकार लगाई।

छत्तीसगढ़ के कोरबा में लगे लॉकडाउन के दौरान प्रशासन और सख्त हो गया है। बंदी के बावजूद हर किसी को पेट्रोल और डीजल बेच रहे एक पंप को 3 दिन के लिए सील कर दिया गया। वहीं बालको प्लांट के सामने खड़ी पिकअप जब्त कर ली गई और दो ऑटो चालकों पर भी जुर्माना लगाया गया है। लॉकडाउन में सड़क पर दौड़ रहे वाहनों को देखकर कलेक्टर किरण कौशल ने नाराजगी व्यक्त की और अफसरों को फटकार लगाई।

जिले में 12 अप्रैल से 22 अप्रैल तक 10 दिन का लॉकडाउन लगाया गया है। इस दौरान कोरोना संक्रमण को रोकने के साथ मरीजों के उपचार की भी व्यवस्था बढ़ाई जा रही है। जिले में अब ESIC कोविड अस्पताल के अलावा 10 अस्पतालों में सुविधाएं विकसित कर लीं गईं हैं। साथ ही पैरा मेडिकल स्टाफ की उपलब्धता, डोनिंग-डोफिंग सुविधा सहित दवाओं, ऑक्सीजन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं। अगले दो दिनों में इन अस्पतालों में उपचार शुरू हो जाएगा।

दो प्राइवेट अस्पतालों का भी किया गया अधिगृहण
जिले के सार्वजनिक उपक्रमों बालको, NTPC, SECL परियोजना क्षेत्रों के अस्पतालों में भी कोविड मरीजों के इलाज के लिए अपग्रेड किया जा रहा है। जिला प्रशासन ने दो प्राइवेट अस्पतालों बालाजी ट्रामा सेंटर और एनकेएच अस्पताल का सभी सुविधाओं सहित अधिग्रहण कर कोविड मरीजों के इलाज के लिए तैयार करने के निर्देश जारी किए हैं। जीवन आशा अस्पताल और सृष्टि अस्पताल को भी कोरोना मरीजों के इलाज की अनुमति दी है।

इन 10 अस्पतालों को दी गई है अनुमति

  • ESIC कोविड अस्पताल
  • बालको कोविड अस्पताल
  • NTPC अस्पताल
  • सीपेट कोविड केयर सेंटर
  • CTI गेवरा कोविड केयर सेंटर
  • जिला अस्पताल
  • SECL अस्पताल मुड़ापार
  • सृष्टि अस्पताल
  • जीवन आशा अस्पताल
  • बालाजी ट्रामा अस्पताल

इन सभी अस्पतालों में 1577 बेड की क्षमता
जिले में इन सभी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए 1577 बिस्तरों की क्षमता विकसित की गई है। इसमें 400 से अधिक ऑक्सीजीनेटेड बेड, 30 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर सुविधा युक्त बैड, 56 ICU और 31 HDU बेड उपलब्ध हैं। जिले के इन कोविड अस्पतालों में वर्तमान में 27 वेंटिलेटर कोरोना के गंभीर मरीजों के इ्रलाज के लिए उपलब्ध हैं।

खबरें और भी हैं...