पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धान खरीदी का बवाल:CM ने की PM से फोन पर बात; कहा- मिलर्स के यहां से चावल गोदामों तक नहीं पहुंचा तो खरीदी केंद्राें पर ही सड़ जाएगा शेष धान

रायपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छत्तीसगढ़ सरकार को उम्मीद है कि प्नधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप से मौजूदा संकट टल जाएगा। - Dainik Bhaskar
छत्तीसगढ़ सरकार को उम्मीद है कि प्नधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप से मौजूदा संकट टल जाएगा।
  • प्रधानमंत्री ने समाधान का आश्वासन दिया है
  • सेंट्रल पूल में चावल जमा नहीं करने से खरीदी बंद होने के आसार

छत्तीसगढ़ में धान खरीदी पर आए मौजूदा संकट से निपटने के लिए पूरी सरकार सक्रिय हो गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार सुबह फोन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की। उन्होंने सेंट्रल पूल में चावल जमा नहीं होने की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा, केंद्र सरकार ने जल्दी ही चावल जमा करना शुरू नहीं किया तो खरीदा हुआ कई लाख मीट्रिक टन धान बर्बाद हो जाएगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया, समर्थन मूल्य पर खरीदे गए धान की मीलिंग के बाद एफसीआई के पास जमा किया जाता है। केंद्रीय खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग अभी तक एफसीआई को इसका आदेश जारी नहीं कर सका है। इसकी वजह से छत्तीसगढ़ में दिक्कतें बढ़ रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, केन्द्र सरकार की अनुमति नहीं मिलने से वर्तमान में खरीदी केन्द्रों पर धान का उठाव न होने के कारण जाम की स्थिति निर्मित हो रही है। इससे धान के उठाव और मीलिंग में विलंब होगा। ऐसा हुआ तो भंडारित धान का क्षतिग्रस्त होना संभावित है। धान खरीदी प्रभावित होने से राज्य के पंजीकृत 21 लाख 52 हजार किसानों की आजीविका पर विपरीत प्रभाव पड़ना निश्चित है।

बताया जा रहा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से बातचीत में सकारात्मक रुख दिखाया है। उन्होंने इस संबंध में उपयुक्त कार्यवाही करने के संबंध में आश्वासन दिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को भी प्रधानमंत्री कार्यालय फोन कर प्रधानमंत्री से बात करने की कोशिश की थी। प्रधानमंत्री कार्यालय ने देर रात बताया कि सुबह उनकी प्रधानमंत्री से बात हो जाएगी।

एक दिन पहले पत्र लिखकर मांगा मिलने का समय

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर समस्या की जानकारी दी थी। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात का समय मांगा ताकि वे मंत्रियों के साथ उनसे बात करने जा सकें। इस पत्र में मुख्यमंत्री ने बारदाना संकट का भी जिक्र करते हुए चावल जमा करने का आदेश तत्काल जारी कराने की मांग की है।

थोड़ी देर में किसान संगठनों के साथ बैठक

सरकार ने आज चुनिंदा किसान संगठनों की बैठक बुलाई है। यह बैठक मंत्रालय में दोपहर 12 बजे से होगी। इस बैठक में किसानों को मौजूदा परिस्थितियों की जानकारी देकर केंद्र सरकार पर दबाव बनाने की रणनीति पर चर्चा होनी है।

अब तक 47 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी

अधिकारियों ने बताया, बुधवार शाम तक सरकारी केंद्रों में 47 लाख मीट्रिक टन से अधिक धान खरीदा जा चुका है। यह धान 12 लाख किसानों ने बेचा है। केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ से 60 लाख मीट्रिक टन चावल लेने की सैद्धांतिक सहमति दी थी, लेकिन अभी तक एफसीआई एक भी दाना चावल जमा नहीं की है। इससे खरीदी केंद्रों में धान जाम हो रहा है। वहां तालाबंदी की स्थिति है। छत्तीसगढ़ में एक दिसम्बर से धान की सरकारी खरीदी शुरू हुई थी।

खबरें और भी हैं...