कोविड प्रोटोकॉल:बिना अनुमति शादी करने वाले परिवारों पर 10 हजार रुपये का फाइन, जो नियमों का पालन करते मिले उन्हें सच्चे कोविड फाइटर की उपाधि

कवर्धाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शादी वाले घरों में जांच करने पहुंची पुलिस। - Dainik Bhaskar
शादी वाले घरों में जांच करने पहुंची पुलिस।

कवर्धा जिले के कुछ ग्रामीण इलाकों में अचानक पुलिस आ धमकी और चेकिंग की। इन इलाकों में शादियां हो रही थीं। पुलिस ने पाया कि भिभौरी और महराटोला गांव में बिना प्रशासन की अनुमति के ही शादी हो रही है। पूछताछ के बाद जांच टीम ने ऐसे परिवारों पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया। यहां आस-पास के गांव के भी लोग दावत में शामिल होने पहुंचे थे। पुलिस ने सभी को समझाकर छोड़ा कि दोबारा ये गलती न हो।

बगैर अनुमति के शादी करने की वजह से 10 हजार रुपये का जुर्माना देना पड़ा।
बगैर अनुमति के शादी करने की वजह से 10 हजार रुपये का जुर्माना देना पड़ा।

इन इलाकों में कुछ ऐसी शादियां होती मिलीं, जिसमें 5-7 लोग ही मौजूद थे। बाकायदा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शादी समारोह हो रहा था। ऐसे परिवारों को सच्चे कोविड फाइटर की उपाधि देकर एक सर्टिफिकेट पुलिस की टीम ने दिया। गांव के लोगों के बीच उनका हौसला बढ़ाकर दूसरों से भी ऐसा ही करने काे कहा। थाना सहसपुर लोहारा इलाके की पुलिस इस तरीके से कोविड प्रोटोकॉल का पालन करवाने का काम आगे भी जारी रखेगी।

कोविड गाइड लाइन का पालन करने वाले को सर्टिफिकेट देती पुलिस।
कोविड गाइड लाइन का पालन करने वाले को सर्टिफिकेट देती पुलिस।

शनिवार को ईद के मौके पर भी इसी तरह की चेकिंग हुई। पहले से ही मुस्लिम समुदाय के लोगों को समझाया जा चुका था। इस वजह से कोविड प्रोटोकाॅल पालन करते हुए नमाज अदा की गई। समुदाय के प्रमुख लोगों को भी सहसपुर लोहारा थाने की टीम ने सर्टिफिकेट दिया। मस्जिदों में सिर्फ 5 लोगों को ही पहुंचने की हिदायत थी। आम लोगों ने घरों में रहकर ही नमाज पढ़ी। जिले में शादी के कार्यक्रम की पहले जिला प्रशासन से अनुमति लेनी होती है। इसके बाद सिर्फ 10 लोगों की मौजूदगी में ही शादी का कार्यक्रम किए जाने का नियम है।

खबरें और भी हैं...