पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हैंडपंप का पानी अमृत बताकर बांटने वाला गिरफ्तार:रुपए और नारियल का चढ़ावा लेकर दे रहा था पानी, इससे कोरोना संक्रमण दूर करने का करता था दावा; रोज जुटती थी ग्रामीणों की भीड़

​​​​​​​बेमेतरा/कवर्धा2 महीने पहले

कोरोना संक्रमण के साथ जब लोगों में डर और परेशानियां बढ़ रही हैं, कुछ ऐसे भी लोग हैं जो इस संकट का फायदा अंधविश्वास फैलाने में कर रहे हैं। ऐसा ही मामला छत्तीसगढ़ के बेमेतरा में सामने आया है। यहां एक शातिर संक्रमण दूर करने के लिए घर में लगे हैंडपंप के पानी को अमृत बताकर बांट रहा था। झांसे में आकर आसपास के सैकड़ों ग्रामीण रोज उसके घर पहुंच रहे थे। फिलहाल एक मई को FIR दर्ज होने के बाद सोमवार को बेमेतरा थाना पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

रोपी दिनदास अपने घर में लगे हैंडपंप, नल और कुएं से पानी भरकर लाता और लोगों को बांटता। इसे पियो और अपने साथ ले जाओ, कहकर उपदेश देता था।
रोपी दिनदास अपने घर में लगे हैंडपंप, नल और कुएं से पानी भरकर लाता और लोगों को बांटता। इसे पियो और अपने साथ ले जाओ, कहकर उपदेश देता था।

दरअसल, बेमेतरा के ग्राम मोहलई निवासी दिनदास कोसले के घर में हैंडपंप लगा हुआ है। आरोप है कि वह लोगों को इसी हैंडपंप के पानी को अमृत बताकर बांट रहा था। साथ ही दावा कर रहा था कि कोरोना संक्रमण के साथ ही अन्य बीमारियों को भी ठीक कर सकता है। इसके चलते करीब 10-15 दिन से उसके घर पर स्थानीय ग्रामीणों के साथ आसपास के लोगों की भीड़ जुट रही थी। इसे लेकर गुरू घासीदास सेवादार जिला कमेटी के संयोजक मनमोहन बांधे ने पुलिस और कलेक्टर से शिकायत की थी।

अफवाह फैलाई कि मिनीमाता ने दर्शन देकर अमृत पानी बांटने को कहा

कलेक्टर से की गई शिकायत में बताया गया है कि आरोपी दिनदास कोशले ने सब जगह अफवाह फैला दी थी कि उसे मिनीमाता ने सपने में दर्शन दिए हैं। कहा है कि कोरोना से बचाव के लिए मेरी ओर से अमृत पानी पिलाओ। इसके बाद आरोपी दिनदास अपने घर में लगे हैंडपंप, नल और कुएं से पानी भरकर लाता और लोगों को बांटता। इसे पियो और अपने साथ ले जाओ कहकर उपदेश देता था। बदले में वह लोगों से चढ़ावे के नाम पर नारियल और रुपए लेता। भीड़ के चलते सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रही थीं।

थाने में पुलिस को घर से बर्तन में लेकर आए पानी को दिखाता आरोपी। वह इसे बार-बार अमृत पानी ही बताता रहा।
थाने में पुलिस को घर से बर्तन में लेकर आए पानी को दिखाता आरोपी। वह इसे बार-बार अमृत पानी ही बताता रहा।

गुरू घासीदास समिति ने कहा- अफवाहों और अंधविश्वास से बचें

वहीं दूसरी ओर गुरू घासीदास समिति की ओर से लोगों से अपील की गई है कि वह इस तरह की अफवाहों और अंध विश्वास से दूर रहें। साथ ही सतनामी समाज के लोगों से कहा है कि वह अपने बच्चों को सिर्फ वैज्ञानिक, वास्तविक, रोजगार परक शिक्षा और संस्कार दें। उन्होंने प्रशासन से समाज में फैली तमाम भ्रांतियों को दूर करने और उन्हें जागरूक करने की भी मांग की है। समिति का कहना है कि ऐसे लोग समाज को नुकसान पहुंचा रहे हैं। उनकी बातों में आकर ग्रामीण अपनी जान भी जोखिम में डाल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...