पंचतत्व में विलीन हुए दीपक कर्मा:​​​​​​​12 साल के बेटे ने PPE किट पहनकर दी मुखाग्नि, पत्नी ने कहा- जिंदगी के सफर में मुझे अकेला छोड दिया; मां बोलीं- एक बार मेरे जिगर के टुकड़े को सीने से लगाने दो

​​​​​​​दंतेवाड़ा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दीपक कर्मा की लाडली बहन आंचल अपने भाई की कलाई पर राखी बांधना चाहती थी। इसके लिए वह PPE किट पहने और हाथ में रक्षा की डोर लिए हुई थी, लेकिन कोरोना के कारण यह नहीं हो सका। - Dainik Bhaskar
दीपक कर्मा की लाडली बहन आंचल अपने भाई की कलाई पर राखी बांधना चाहती थी। इसके लिए वह PPE किट पहने और हाथ में रक्षा की डोर लिए हुई थी, लेकिन कोरोना के कारण यह नहीं हो सका।

बस्तर टाइगर शहीद महेंद्र कर्मा और दंतेवाड़ा विधायक देवती कर्मा के सबसे बड़े बेटे दीपक कर्मा गुरुवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। PPE किट पहनकर परिजनों ने उनके अंतिम दर्शन किए। इसके बाद 12 साल के बेटे आयुष ने अपने पिता के शव को मुखाग्नि दी। कोरोना संक्रमण के चलते सुबह ही उनका रायपुर स्थित MMI अस्पताल में उपचार के दौरान निधन हो गया था। दीपक कर्मा छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस के महासचिव भी थे।

दीपक कर्मा गुरुवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। PPE किट पहनकर 12 साल के बेटे आयुष ने अपने पिता के शव को मुखाग्नि दी।
दीपक कर्मा गुरुवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। PPE किट पहनकर 12 साल के बेटे आयुष ने अपने पिता के शव को मुखाग्नि दी।

रायपुर से दोपहर करीब 2 बजे कांग्रेस नेता दीपक कर्मा का पार्थिव शरीर एंबुलेंस से उनके गृहग्राम फरसपाल लाया गया। इस दौरान उनके अंतिम दर्शन के लिए सीमित संख्या में परिवार के अन्य सदस्य और गांव के लोग पहुंचे थे। इस दौरान परिजनों को प्रशासन की ओर से PPE किट पहनाई गई। इसके बाद उन्हें शव सौंपा गया। वहां मौजूद हर किसी की आंखें नम थी। इसके बाद अपने चाचा आशीष, छवींद्र, दिव्य राज के साथ बेटे ने अंतिम संस्कार किया।

कोरोना से छत्तीसगढ़ कांग्रेस महासचिव की मौत:बस्तर टाइगर शहीद महेंद्र कर्मा के बेटे दीपक कर्मा का निधन; रायपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में चल रहा था इलाज

दीपक कर्मा के निधन से विधायक व मां देवती कर्मा और पत्नी रमा कर्मा का रो-रो कर बुरा हाल था। पत्नी रमा कर्मा कह रही थी, जिंदगी के सफर में तुमने मुझे अकेला छोड़ दिया दीपक।
दीपक कर्मा के निधन से विधायक व मां देवती कर्मा और पत्नी रमा कर्मा का रो-रो कर बुरा हाल था। पत्नी रमा कर्मा कह रही थी, जिंदगी के सफर में तुमने मुझे अकेला छोड़ दिया दीपक।

संक्रमण के कारण मां और पत्नी को शव से दूर रखा गया
दीपक कर्मा के निधन से विधायक व मां देवती कर्मा और पत्नी रमा कर्मा का रो-रो कर बुरा हाल था। उन्हें संक्रमण के कारण दूर से ही दर्शन कराए गए। मां देवती कर्मा बिलख कर कहती रहीं, एक बार मेरे जिगर के टुकड़े को सीने से लगाने दो। पर यह संभव न हो सका। वहीं पत्नी रमा कर्मा कह रही थी, जिंदगी के सफर में तुमने मुझे अकेला छोड़ दिया दीपक। भाई छविंद्र, आशीष और दिव्यराज कर्मा का भी रो-रो कर बुरा हाल था।

मां देवती कर्मा बिलख कर कहती रहीं, एक बार मेरे जिगर के टुकड़े को सीने से लगाने दो। पर यह संभव न हो सका।
मां देवती कर्मा बिलख कर कहती रहीं, एक बार मेरे जिगर के टुकड़े को सीने से लगाने दो। पर यह संभव न हो सका।

आखिरी बार भाई की कलाई पर राखी बांधना चाहती थी लाडली बहन
दीपक कर्मा की लाडली बहन आंचल अपने भाई की कलाई पर राखी बांधना चाहती थी। इसके लिए वह PPE किट पहने और हाथ में रक्षा की डोर लिए हुई थी, लेकिन कोरोना के कारण यह नहीं हो सका। उसे दीपक के शव के पास तक नहीं जाने दिया गया। आंचल पांच बहनों में सबसे छोटी है। हालांकि राखी को पार्थिव शव के ऊपर रखवा दिया गया। दूर से ही अन्य बहनों तूलिका, वर्षा, सुलोचना व बिन्नी ने भी दर्शन किए।

दीपक का जाना परिवार के साथ क्षेत्र की राजनीति के लिए बड़ा झटका
अंतिम दर्शन करने पहुंचे बस्तर सांसद दीपक बैज भी कहा कि दीपक कर्मा के निधन से दुख हुआ है। केवल 44 साल की उम्र में ही उन्होंने संसार छोड़ दिया। उनका अचानक चले जाना कर्मा परिवार सहित प्रदेश की राजनीति के लिए एक बड़ा झटका है। दीपक काफी मिलनसार और कुशल नेतृत्व के धनी थे। उन्हें युवा पीढ़ी बहुत ज्यादा पसंद किया करती थी। अंतिम दर्शन के लिए PCC चीफ मोहन मरकाम, विधायक चंदन कश्यप, राजमन बेंजाम भी पहुंचे।

खबरें और भी हैं...