पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

टीकाकरण से पहले डॉक्टरों की सलाह:2 माह तक या तो बच्चा प्लान मत करिए या कोरोना वैक्सीन मत लगवाइए

रायपुरएक महीने पहलेलेखक: पीलूराम साहू
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • महिला कोरोना वारियर्स को वैक्सीनेशन सेंटर में डाॅक्टरों की नसीहत

काेराेना से बचाव के लिए प्रदेश में काेविशील्ड लग रही है, लेकिन फ्रंटलाइन वारियर्स में शामिल महिलाएं इस सलाह से चौंक रही हैं कि वैक्सीन लगवाने के बाद दो माह तक उन्हें गर्भ धारण नहीं करना है। अगर ऐसा प्लान है तो वैक्सीन मत लगवाइये। यही नहीं, शुरुआती गर्भावस्था वाली महिलाओं को भी वैक्सीन के डोज नहीं दिए जा रहे हैं।

इन सवालों के साथ कुछ महिलाओं को वैक्सीन सेंटर से लौटाया भी गया है। कोरोना कोर कमेटी के मुताबिक यह सतर्कता वैक्सीनेशन की गाइडलाइन में है। कोरोना वैक्सीनेशन की गाइडलाइन के अनुसार वैक्सीन के पहले डोज के 28 दिन बाद दूसरा डोज दिया जाना है।अगर पहला पहला डोज दे दिया गया और महिला गर्भवती हो गई तो फिर उसे दूसरा डोज नहीं दिया जा सकता। क्योंकि गर्भवती को वैक्सीन नहीं लगाई जानी है।

डाक्टरों का कहना है कि ऐसे में पहला डोज खराब हो जाएगा, मामला यही है। ऐसी कोई रिसर्च नहीं है कि गर्भवती महिला को वैक्सीन लगने से कोई नुकसान होगा या नहीं। लेकिन केवल इसीलिए वैक्सीन ट्रायल में गर्भवती महिलाओं को शामिल भी नहीं किया गया था। इसलिए महिलाओं से सतर्कता बरतते हुए बच्चे की प्लानिंग पर सवाल कर रहे हैं। जो महिलाएं प्लान कर रही हैं, उन्हें वैक्सीन नहीं लगा रहे हैं।

महिलाओं के सवाल, डाॅक्टर का जवाब
सवाल - बच्चा प्लान कर रहे हैं, वैक्सीन लगाएं या नहीं?
जवाब: नहीं
सवाल -8 माह का बच्चा है। ब्रेस्ट फीडिंग कर रहा है।
जवाब: न लगवाएंं
सवाल -2 साल का बच्चा है। कभी-कभी दूध पीता है।
​​​​​​​जवाब: न लगवाएंं
सवाल -गर्भवती हैं, ऐसे में वैक्सीन लगवाएं या नहीं?
​​​​​​​जवाब: नहीं

बच्चों को दूध पिलाने वाली माताओं को भी टीके नहीं
नेहरू मेडिकल कॉलेज रायपुर में वैक्सीनेशन प्रोग्राम के नोडल अफसर डॉ. ओंकार खंडवाल का कहना है कि कई महिला डॉक्टरों और नर्सों ने पूछा कि बच्चे की प्लानिंग कर रहे हैं, ऐसे में वैक्सीन लगवाने आएं या नहीं। उन्हें यही कह रहे हैं कि वैक्सीन मत लगवाइए। जिनके छोटे बच्चे हैं और ब्रेस्ट फीडिंग कर रहे हैं, उन्हें भी वैक्सीन का डोज नहीं दिया जा रहा है।

वैक्सीन लगवाने वालों में आधी से ज्यादा महिलाएं
प्रदेश में पहले चरण में 2.67 लाख हेल्थ वर्कर को वैक्सीन लगाई जा रही है। 75 हजार से ज्यादा हेल्थ वर्कर को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। इसमें आधे से ज्यादा महिलाएं है। नर्सों में 90 फीसदी महिलाएं हैं। बाकी निजी अस्पतालों व केंद्र सरकार की संस्थानों में सेवा देने वाले मेल नर्स हैं। रोजाना ऐसे फोन आते हैं, जिसमें वैक्सीन डोज के बारे में पूछा जाता है।

एक्सपर्ट व्यू - गर्भवती को डोज नहीं दिया जा सकता
"जो गर्भवती हैं या बच्चे का प्लान कर रहे हैं, उन्हें वैक्सीन का डोज नहीं दिया जा सकता। यह वैक्सीनेशन की गाइडलाइन में है। पहला डोज देने के बाद अगर कोई महिला गर्भवती हुई, तो उसे दूसरा डोज नहीं दे सकते।"
-डॉ. आरके पंडा, सदस्य कोरोना कोर कमेटी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें