पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गरियाबंद:जांच में खुलासा- बाघ के हमले की वजह से हुई थी हाथी के बच्चे की मौत, पैरों और दांतों के निशान भी मिले

गरियाबंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फोटो सीता नदी उदंती टाइगर रिजर्व की है। हाथी की मौत के बाद एक्सपर्ट्स की टीम ने घटना स्थल का मुआएना किया था।
  • सीता नदी उदंती टाइगर रिजर्व में शनिवार को मिला था हाथी के बच्चे का शव
  • झूंड से बिछड़े बच्चे को बाघ ने बनाया शिकार, हाल ही में इस इलाके में बाघ देखा गया

गरियाबंद जिले के उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व में हाथी के बच्चे की मौत मामले में नए तथ्य सामने आए हैं। रिजर्व के डीएफओ सुयश जैन ने बताया कि पैर के निशान, और मृत हाथी के शरीर पर दांत के निशान व मौके पर मिले बाघ के हैं। रिजर्व फारेस्ट के कूकरार जंगल में शनिवार को हाथी के बच्चे का शव मिला था। इसके बाद एक्सपर्ट की टीम ने जांच के बाद यह पाया कि हमला बाघ ने किया। रिजर्व फारेस्ट इलाके में हाथी का एक दल कई महीनों से विचरण कर रहा है। हाथी के झुंड पर बाघ ही हमला कर सकता है, जंगल के अन्य जीव इस तरह से हमला नहीं करते।

यह उस बाघ के पैर के निशान हैं, जिसने हाथी के बच्चे पर हमला किया। पेन रखकर अधिकारी इसके साइज का अंदाजा पेश कर रहे हैं।
यह उस बाघ के पैर के निशान हैं, जिसने हाथी के बच्चे पर हमला किया। पेन रखकर अधिकारी इसके साइज का अंदाजा पेश कर रहे हैं।

यहां है टाइगर्स का डेरा
जहां हाथी का शव मिला वह बाघ कॉरिडोर का हिस्सा है, ओडिशा के सूनाबेडा जंगल व टाइगर रिजर्व में बाघ इसी रास्ते से आवाजाही करते हैं। वाइल्ड लाइफ के वरिष्ठ चिकित्सक डॉक्टर राकेश वर्मा के साथ सोमेश जोशी और अन्य तीन एक्सपर्ट की टीम ने भी जगह का मुआयना किया। बाघ पर निगरानी रखने वानी ट्रेकर टीम ने 7 अक्टूबर व 17 अक्टूबर को मादा बाघ को कूकरार इलाके में देखा था। फिलहाल अब ये थी देखा जाएगा कि इलाके में मिले पुराने पगमार्क और मल से मौजूदा रिपोर्ट मैच होती है या नहीं। ताकि यह कंफर्म किया जा सके कि हमला करने वाला बाघ वही है या नहीं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें