• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Human Face Between Covid 19 In Chhattisgarh | Muslim Community Cremated Dead Body After Death Of Coronavirus Infected Hindu Youth In Gariyaband

मदद के लिए टूट रही धर्म की दीवारें:हिंदू युवक की कोरोना से मौत, बीमार पिता और दिव्यांग भाई ने असमर्थता जताई; मुस्लिम युवाओं ने किया अंतिम संस्कार

​​​​​​​गरियाबंद6 महीने पहले

कोरोना संक्रमण के दौर में कई लोग अपनों का साथ छोड़ रहे हैं। कुछ चाह कर भी मदद नहीं कर पा रहे। वहीं कुछ ऐसे भी हैं, जो जाति, धर्म की दीवारें तोड़कर इंसानियत के लिए काम कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ के गरियाबंद में हिंदू युवक की संक्रमण से मौत हो गई। बीमार पिता और दिव्यांग भाई ने अंतिम संस्कार करने में असमर्थता जताई। ऐसे में मुस्लिम समुदाय के युवा आगे और उन्होंने गुरुवार को हिंदू रीति रिवाजों के साथ शव का अंतिम संस्कार किया।

आमदी पारा निवासी लोकेश जामरे (40) कोरोना संक्रमित था। होम आइसोलेशन में रहने के दौरान उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई। किसी तरह उसे बुधवार रात 2 बजे कोविड अस्पताल लाया गया, जहां ऑक्सीजन लेवल गिरने से एक घंटे बाद उसने दम तोड़ दिया। अस्पताल प्रबंधन ने शव को उसके बुजुर्ग पिता खोलबहारा को सौंप दिया। पिता और दिव्यांग छोटा भाई दीपक घंटों तक उसके अंतिम संस्कार का प्रयास करते रहे।

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद में मुस्लिम युवकों ने PPE किट पहन कर कोविड प्रोटोकॉल के तहत हिंदू युवक का अंतिम संस्कार किया।
छत्तीसगढ़ के गरियाबंद में मुस्लिम युवकों ने PPE किट पहन कर कोविड प्रोटोकॉल के तहत हिंदू युवक का अंतिम संस्कार किया।

घर में सभी बीमार, मोहल्ले में भी 8 से 10 परिवार संक्रमित
खेलबहारा के परिवार में सिर्फ वह और उसका बेटा ही पुरूष सदस्य बचें हैं। उनको छोड़कर घर के अन्य सदस्य भी बीमार हैं। वहीं मोहल्ले में भी 8 से 10 परिवार कोरोना संक्रमित हैं। ऐसे में उनको अंतिम संस्कार के लिए कोई मदद नहीं मिल सकी। इसकी जानकारी मुस्लिम समुदाय के युवकों को लगी तो उन्होंने लोकेश के शव का अंतिम संस्कार करने का निर्णय लिया। वह सभी लोकेश के घर पहुंचे और परिजनों के सामने प्रस्ताव रखा।

लिखित सहमति मिलने के बाद PPE किट पहनकर किया दाह संस्कार
लोकेश के परिजनों ने अंतिम संस्कार के लिए लिखित सहमति दे दी। इसके बाद ताहिर खान, जुनैद खान, सफीक रजा, सन्नी मेमन, अरबाज खान,हैदर अली,साजिद खान,आसिफ खान,दादू अली व सर्वर खान समेत समाज के दर्जन भर युवकों ने समाजसेवी हेमंत सांग के साथ मिलकर अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी की। युवाओ ने PPE किट पहन कर कोविड प्रोटोकॉल के तहत शासन की ओर से चिन्हित मालगांव नदी घाट में दाह संस्कार किया।

सुपुर्दे खाक के लिए बनाई है युवाओं की टोली
टीम के प्रमुख ताहिर खान ने बताया कि कोरोना के इस विभिषिका में लगातार मौतें हो रही हैं। समय पर परिजन भी इस मुसीबत की घड़ी में खड़े नही हो पा रहे हैं। ऐसे में मुस्लिम जमात में घटना घटित होने पर सुपुर्दे खाक में सहयोग के लिए युवाओं की टीम बनाई। इस टीम ने गुरुवार को ही मेहरुन निशा का और दो दिन पहले उसके पति को भी सुपुर्दे खाक किया था। टीम ने अब तक 10 से भी ज्यादा शवों का अंतिम संस्कार कर चुकी है, लेकिन हिन्दू रीति रिवाज से पहली बार शव का अंतिम संस्कार किया है।

खबरें और भी हैं...