पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • In The Corona Period, No Financial Burden Should Be Put On Anyone, So They Will Not Ask For The Donation Of Navratri, The Members Will Organize The Money By Collecting Money At Their Level.

दुर्गोत्सव समितियों का फैसला:कोरोना काल में किसी पर आर्थिक बोझ न पड़े इसलिए नहीं मांगेंगे नवरात्रि का चंदा, सदस्य अपने स्तर पर पैसे इकट्‌ठा कर करेंगे आयोजन

रायपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • माना और कालीबाड़ी समिति नहीं करेगी भव्य आयोजन

आकाश धनगर | कोरोना संक्रमण के रोकथाम और उसके उपाय के लिए प्रशासन ने दुर्गाेत्सव मनाने के लिए गाइडलाइन जारी की है। इसके चलते शहर की समितियों ने बड़े स्तर पर आयोजन नहीं करने का निर्णय लिया है। समितियों ने बताया कि इस बार समिति परिवार के सदस्य आपस में पैसे इकट्‌ठा कर दुर्गाेत्सव मनाएंगे, लोगों से चंदा नहीं लिया जाएगा। कोरोना काल को देखते हुए समितियों ने लोगों पर आर्थिक बोझ नहीं डालने का यह निर्णय किया है। समितियों ने माना है कि महामारी के चलते सभी वर्गों की आर्थिक स्थिति कमजोर है, जिसके चलते ऐसे समय में लोगों से चंदा लेना ठीक नहीं होगा। समिति के सदस्य अपने स्तर पर सारे खर्च वहन कर दुर्गाेत्सव पर्व मनाएंगे।
अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने बुधवार को कलेक्टर से नवरात्रि की गाइडलाइन में कुछ बदलाव करने की मांग की है। महासभा की महिला प्रदेश अध्यक्ष रश्मि मिश्रा ने बताया कोरोना संकट के चलते समितियां बिना चंदा मांगे दुर्गाेत्सव मना रही है। इसके चलते यह उचित नहीं है कि पंडाल में 4 सीसीटीवी कैमरे लगाए जा सके, पंडाल में संक्रमित पाए जाने पर समिति की ओर से खर्चों का वहन किया जाए। इसके साथ ही उन्होंने माता की मूर्ति स्थापना और विसर्जन के दौरान ढोल-धुमाल और डीजे बजाने की अनुमति देने की मांग की है। इस दौरान आशीष दुबे, अभिलाष साहू, राकेश साहू, चेतन सपहा, नितेश गोरे, अंकित देशमुख, मिलन साहू आदि उपस्थित रहे। जय मां दुर्गोत्सव समिति के अध्यक्ष मनोज चक्रधारी ने बताया कि इस बार मंदिर में ही माता की पूजा-अर्चना की जाएगी। मंदिर में ही ज्योति-कलश की स्थापना की जाएगी और विधिवत पूजा होगी। इस समय लोगों पर आर्थिक बोझ न पड़े, इसलिए समिति ने चंदा नहीं लेने का निर्णय किया है। समिति के सदस्य आपस में सभी खर्च वहन करेंगे और दुर्गोत्सव मनाया जाएगा, ताकि वर्षों पुरानी परंपरा न टूटे।

कालीबाड़ी में नहीं होगी मूर्तिपूजा
कालीबाड़ी दुर्गाेत्सव समिति के सचिव तन्मय चटर्जी ने बताया कि इस बार कालीबाड़ी में घट स्थापना कर पूजा की जाएगी और मूर्तिपूजा नहीं होगी। कोरोना संक्रमण के चलते समिति की ओर से चंदा नहीं लिया जाएगा। घट स्थापना के साथ माता की फोटाे लगाई जाएगी और समिति के सदस्य और पंडित विधिवत पूजा अर्चना की जाएगी। बाहर से आने वाले श्रद्धालु पूजा में शामिल नहीं हो सकेंगे।

माना में नहीं बनेगा दुर्गा पंडाल, शासन के नियमों का होगा पालन
माना 20 ब्लॉक दुर्गाेत्सव समिति के अध्यक्ष रंजीत डे ने बताया कि इस बार माता की 5 फीट की मूर्ति की स्थापना की जाएगी। इसके साथ ही माइक, पंडाल, साउंड सिस्टम नहीं लगाया जाएगा। कोरोना संक्रमण के चलते लोगों से चंदा नहीं लिया जा रहा है। पूजा-अर्चना विधि विधान से किया जाएगा। पंडाल में लोगों की भीड़ न हो इसका विशेष ध्यान रखा जाएगा।

सदस्य आपस में वहन करेंगे खर्च
पंचमूर्ति चौक संजय नगर के बजरंग नवयुवक दुर्गोत्सव समिति अध्यक्ष मनीष करड़भूजे ने बताया कि इस वर्ष माता की मूर्ति की स्थापना की जा रही है। प्रशासन के नियमों का पालन किया जाएगा। लोगों का आर्थिक बोझ न बढ़े, इस उद्देश्य से चंदा इकट्‌ठा नहीं किया जा रहा है। समिति के सदस्य आपस में सभी खर्च वहन करेंगे। पंडाल भी नियमों का पालन करते हुए बनवाया गया है।

बाहरी लोगों को नहीं मिलेगा प्रवेश
माना न्यू मार्केट दुर्गोत्सव समिति के संरक्षक मणितोष विश्वास ने बताया कि इस बार मेले का आयोजन नहीं किया जाएगा। भव्य आयोजन नहीं होंगे। समिति परिवार के सदस्य आपस में सभी खर्चों का वहन करेंगे और लोगों से चंदा नहीं लिया जाएगा। माता की पूजा पंडित द्वारा की जाएगी। इस दौरान कम से कम सदस्य उपस्थित हो, इसका ध्यान रखा जाएगा। बाहर से आने वाले दर्शनार्थियों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...