पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

...क्योंकि मंत्री जी को ठंड पसंद है!:आबकारी मंत्री कवासी लखमा और दो नेताओं की खाली गाड़ियों में 2 घंटे चलता रहा AC, ड्राइवर बोला- गर्मी बहुत है, साहब को गाड़ी ठंडी चाहिए

रायपुर9 दिन पहले
तस्वीर मंत्री कवासी लखमा की गाड़ी की है। एक घंटे तक इसे ठंडा रखने के लिए ऑन रखा गया।

महासमुंद जिला पंचायत में हुई मंत्री जी की समीक्षा बैठक में यह दिखा कि नेता, पब्लिक के पसीने की कमाई को अपनी सुविधाओं के लिए कैसे लुटाते हैं। अंदर समीक्षा बैठक चल रही थी और बाहर खड़ी नेताओं की तीन गाड़ियां सिर्फ इसलिए एसी के साथ स्टार्ट थीं, कि जब मंत्री जी और दूसरे नेता लौटें तो उनकी गाड़ियां उन्हें ठंडी मिले। कुछ मिनट नहीं करीब दो घंटे तक खाली गाड़ियां ऐसे ही खड़ी रहीं। बीच में रिपोर्टर को देखकर ड्राइवर ने इंजन बंद किए, लेकिन बाद में फिर गाड़ियां साहब के इंतजार में चालू कर दी गईं।

आबकारी मंत्री पहुंचे थे समीक्षा बैठक के लिए

छत्तीसगढ़ के आबकारी मंत्री हैं कवासी लखमा, इनका विभाग सरकारी खजाने में शराब से होने वाली आय पहुंचाता है। अब जनता के पैसों से मिलने वाली सरकारी व्यवस्था का दुरुपयोग करने का मामला सामने आया है। इनका काफिला मंगलवार को महासमुंद पहुंचा था। विभागीय समीक्षा बैठक थी। जिला पंचायत के दफ्तर के बाहर इनकी गाड़ियां खड़ीं थी और गाड़ी का इंजन ऑन था। डीजल और पेट्रोल की कीमत बेतहाशा बढ़ी है, कांग्रेस इसका विरोध कर रही है।

इस बैठक में जिले के काई VIP पहुंचे थे।
इस बैठक में जिले के काई VIP पहुंचे थे।

मगर महासमुंद में करीब 2 घंटे तक मंत्री लखमा की फॉर्च्यूनर का इंजन ऑन था। मंत्री लखमा ने करीब दो घंटे तक बैठक ली। जिले के सभी अफसरों से मुलाकात की, स्थानीय नेताओं की दुआ-सलाम भी हुई। दूसरी तरफ बाहर खड़ी मंत्री जी की गाड़ी का AC चलता रहा। इसे कैमरे में कैद कर लिया गया। दैनिक भास्कर की टीम को देख गाड़ियों में बैठे ड्राइवर हड़बड़ा गए। जब उनसे ये पूछा गया कि गाड़ी का तेल क्यों फूंक रहे हैं, तो ड्राइवर ने कहा कि साहब निकलने वाले हैं, इसलिए चालू रखी है गाड़ी ताकि AC से गाड़ी ठंडी रहे और आते ही मंत्री जी को गर्मी न लगे, बाहर गर्मी हीट बहुत है क्या करें। इसके बाद ड्राइवर्स ने गाड़ी का इंजन ऑफ कर दिया।

कवासी लखमा इस बैठक में अंदर भी एसी कमरे में ही थे।
कवासी लखमा इस बैठक में अंदर भी एसी कमरे में ही थे।

संसदीय सचिव मंत्री से कम थोड़े ही हैं
आबकारी मंत्री कवासी लखमा को गर्मी लगती है तो संसदीय सचिव विनोद सेवनलाल चंद्राकर को भी गर्मी लगती है। इनकी इनोवा कार का भी इंजन डीजल फूंकता रहा। AC चलता रहा और गाड़ी ठंडी होती रही। जनता के पैसों का इस कदर दुरुपयोग महासमुंद के जिला पंचायत दफ्तर के बाहर हुआ। कवासी लखमा को महासमुंद का प्रभारी मंत्री बनाया गया है। यहां वो जिला प्रशासन के काम-काम की समीक्षा करने पहुंचे। इस बैठक में द्वारिकाधीश यादव, विधायक देवेंद्र बहादुर सिंह, किस्मत लाल नंद सहित जिला पंचायत के पदाधिकारी, कलेक्टर डोमन सिंह, पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर, जिला पंचायत के प्रमुख आकाश छिकारा सहित आला अधिकारी मौजूद रहे।

खड़ी गाड़ियों में फूंक दिया गया हजारों का ईंधन

गाड़ियों के जानकार कहते हैं कि बड़ी गाड़ियों को यदि इस तरह स्टार्ट कर, एसी चलाकर छोड़ दिया जाए तो एक घंटे में करीब 15 लीटर डीजल-पेट्रोल खर्च हो जाता है। तीन गाड़ियों को करीब दो घंटे तक इस तरह स्टार्ट रखने में 90 लीटर डीजल-पेट्रोल खर्च हुआ है। मतलब करीब 8 हजार रुपए मंत्री-नेताओं ने मुफ्त में खर्च कर दिए। सोचिए यदि मंत्री जी रोज ऐसी मीटिंग में शामिल होते होंगे, तो जनता के लाखों रुपए तो हर महीने खड़ी गाड़ियों में ही फूंक दिए जाते होंगे। जानकार कहते हैं कि खड़ी गाड़ियों में इस तरह इंजन और एसी चलाए जाने से गाड़ियां जल्दी खराब भी होती हैं।

खबरें और भी हैं...