पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Jashpur Lightning Strike Accident | Lightning Strike Kills Two Brother Among Three People In Chhattisgarh Jashpur

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आसमान से गिरी आफत:खेत में काम करने के लिए गए थे, बारिश और ओलावृष्टि के साथ गिरी बिजली, दो भाइयों सहित 3 की मौत, 4 झुलसे, मां-बेटे की हालत गंभीर

​​​​​​​जशपुर3 दिन पहले
बारिश के साथ ओले गिरने लगे। इससे बचने के लिए सभी लोग पुआल के बने मचान के नीचे जाकर खड़े हो गए। इसी दौरान मचान पर ही आकाशीय बिजली गिर पड़ी। 

छत्तीसगढ़ के जशपुर में सोमवार दोपहर आकाशीय बिजली गिरने से दो भाइयों सहित 3 लोगों की मौत हो गई। जबकि महिला और उसका बेटा सहित 4 लोग गंभीर रूप से झुलस गए। यह सभी लोग खेत में काम करने के लिए गए थे। इसी दौरान बारिश और ओले गिरना शुरू हो गए। बचने के लिए सभी मचान के नीचे खड़े हो गए थे। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजवा दिया है। मामला सन्ना थाना क्षेत्र का है।

हादसे के बाद मौजूद ग्रामीण और रोते-बिलखते परिजन।
हादसे के बाद मौजूद ग्रामीण और रोते-बिलखते परिजन।

जानकारी के मुताबिक, डूमरकोना गांव में मिर्ची बुआई का काम चल रहा था। इसमें गांव के ही सगे भाई रुपेंद्र (21) और दीपक (17), नंदलाल (18), मुकेश उसकी मां सविता, अभिषेक और मरंगीपाठ गांव का एक युवक काम कर रहे थे। दोपहर करीब 2 बजे अचानक मौसम बदल गया। बारिश के साथ ओले गिरने लगे। इससे बचने के लिए सभी लोग पुआल के बने मचान के नीचे जाकर खड़े हो गए। इसी दौरान मचान पर ही आकाशीय बिजली गिर पड़ी।

गांव में मिर्ची बुआई का काम चल रहा था। इसमें गांव के ही सगे भाई रुपेंद्र (21) व दीपक (17), नंदलाल (18), मुकेश उसकी मां सविता, अभिषेक और मरंगीपाठ गांव का एक युवक काम कर रहे थे।
गांव में मिर्ची बुआई का काम चल रहा था। इसमें गांव के ही सगे भाई रुपेंद्र (21) व दीपक (17), नंदलाल (18), मुकेश उसकी मां सविता, अभिषेक और मरंगीपाठ गांव का एक युवक काम कर रहे थे।

मां-बेटे की हालत नाजुक, सभी को दी जाएगी सहायता राशि
हादसे में रुपेंद्र (21), दीपक (17) और नंदलाल (18) की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि मुकेश, सविता, अभिषेक और एक अन्य युवक गंभीर रूप से झुलस गए। थोड़ी देर बाद मौसम शांत हुआ तो ग्रामीण मौके पर पहुंचे। घायलों को उपचार के लिए सन्ना के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया है। वहां मां-बेट सविता और मुकेश की हालत नाजुक बनी हुई है। वहीं कलेक्टर महादेव कावरे ने संवेदना व्यक्त करते हुए सहायता राशि देने के निर्देश दिए हैं।

भास्कर नॉलेज:3 लाख किमी प्रति घंटा की रफ्तार से धरती पर गिरती है बिजली; इससे बचने के 6 तरीके

बिजली गिरने पर क्या करें

  • सिर के बाल खड़े हो जाएं या झुनझुनी होने लगे तो फौरन नीचे बैठकर कान बंद कर लें। यह इस बात का संकेत है कि आपके आसपास बिजली गिरने वाली है।
  • जहां हैं, वहीं रहे। हो सके तो पैरों के नीचे सूखी चीजें जैसे-लकड़ी, प्लास्टिक, बोरा या सूखे पत्ते रख लें।
  • दोनों पैरों को आपस में सटा लें, दोनों हाथों को घुटनों पर रख कर अपने सिर को जमीन की तरफ जितना संभव हो झुका लें। सिर को जमीन से सटने न दें। जमीन पर कभी न लेटें।
  • बिजली से चलने वाले उपकरणों से दूर रहें, तार वाले टेलीफोन का इस्तेमाल न करें। खिड़कियों, दरवाजे, बरामदे और छत से दूर रहें।
  • पेड़ बिजली को आकर्षित करते हैं, इसलिए पेड़ के नीचे खड़े न हों। समूह में न खड़े रहें, अलग-अलग हो जाएं।
  • घर से बाहर हैं तो धातु से बनी वस्तुओं का इस्तेमाल न करें। बाइक, बिजली के पोल या मशीन से दूर रहें।

क्यों गिरती है बिजली?

आकाशीय बिजली इलेक्ट्रिकल डिस्चार्ज है। ऐसा तब होता है, जब बादल में मौजूद हल्के कण ऊपर चले जाते हैं और पॉजिटिव चार्ज हो जाते हैं। भारी कण नीचे जमा होते हैं और निगेटिव चार्ज हो जाते हैं। जब पॉजिटिव और निगेटिव चार्ज अधिक हो जाता है। तब उस क्षेत्र में इलेक्ट्रिक डिस्चार्ज होता है। अधिकतर बिजली बादल में बनती है और वहीं खत्म हो जाती है, लेकिन कई बार यह धरती पर भी गिरती है। आकाशीय बिजली में लाखों-अरबों वोल्ट की ऊर्जा होती है। बिजली में अत्यधिक गर्मी के चलते तेज गरज होती है। बिजली आसमान से धरती पर 3 लाख किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से गिरती है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें