• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • National Highway Connecting Several Districts Including GPM, Korea Is So Bad That It Takes Hours To Come To Bilaspur, Life Of Patients Being Brought At Risk

मरीजों के सामने सड़क का भी संकट:GPM, कोरिया सहित कई जिलों को जोड़ने वाला NH इतना खराब कि बिलासपुर आने में लगते हैं घंटों, लाए जा रहे मरीजों की जान जोखिम में

पेंड्रा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इस समय कोविड पॉजिटिव पेशेंट्स को बेहतर इलाज के लिए बड़े शहरों में शिफ्ट किया जा रहा है। बिलासपुर के आसपास बसे जिलों यहां तक कि मध्यप्रदेश के मंडला, शहडोल तक से मरीजों को यहां के अस्पतालों में लाया जा रहा है, लेकिन इसमें सबसे बड़ी समस्या बन गई है बिलासपुर-जबलपुर नेशनल हाइवे की बदहाल स्थिति। हालात यह है कि पेंड्रा-गौरेला की महज 97 किलोमीटर की दूरी तय करने में तीन घंटे से भी अधिक समय लग रहा है।

बंजारी घाट में सात बड़े खतरनाक मोड़ हैं। यहां लगातार दुर्घटना हो रही हैं। सड़क पर बड़े गड्ढों के कारण भारी वाहन फंस रहे हैं।
बंजारी घाट में सात बड़े खतरनाक मोड़ हैं। यहां लगातार दुर्घटना हो रही हैं। सड़क पर बड़े गड्ढों के कारण भारी वाहन फंस रहे हैं।

काम ही नहीं शुरू हो पाया नेशनल हाइवे का

दो साल पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने जबलपुर से बिलासपुर तक नेशनल हाइवे बनाने की घोषणा की थी। इसके बाद पिछले साल यह सड़क नेशनल हाइवे अथॉरटी को हैंडओवर कर दी गई थी। उसके बाद से विभागीय खींचतान और लेटलतीफी के कारण मंडला, शहडोल, पेड्रा, केंदा, रतनपुर होकर बिलासपुर आने वाली इस सड़क के अधिकांश हिस्से में कोई काम नहीं हो सका। केंदा से बिलासपुर की सड़क पर फिर भी मरम्मत और डामरीकरण हुआ लेकिन पेंड्रा से पहले और केंदा तक की सड़क बदहाल ही रही।

बंजारी घाट है बड़ी समस्या

GPM जिले से बिलासपुर आने का सबसे आसान मार्ग है RMKK मार्ग। यह सड़क अचानकमार टाइगर रिजर्व की सड़क से कम घुमावदार और छोटी है। मध्यप्रदेश के शहडोल, मंडला, अनूपपुर जैसे जिलों से आने वाले लोग भी इसी मार्ग का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन अब इस सड़क की बदहाली बढ़ने लगी है। यहां के बंजारी घाट में सात बड़े खतरनाक मोड़ हैं। यहां लगातार दुर्घटना हो रही हैं। सड़क पर बड़े गड्ढों के कारण भारी वाहन फंस रहे हैं। पूरे घाट पर सड़क खराब है और लोगों को इसे पार करने में बहुत देर लग रही है।

कलेक्टर को शिकायत लेकिन कोई हल नहीं

GPM के लोगों ने लगातार कलेक्टर, नेताओं को इस सड़क हो बेहतर बनाने के लिए ज्ञापन दिए हैं। मांगे की हैं, लेकिन कोई हल नहीं निकला है। अब लोगों का कहना है कि कोरोना काल में हमें यहां से रोज कई मरीजों को बिलासपुर ले जाना पड़ रहा है। ऐसे में यदि सड़क नहीं बनी तो कई मरीजों की स्थिति रास्ते में ही गंभीर हो रही है। लोगों का गुस्सा सड़क निर्माण नहीं होने को लेकर बढ़ता जा रहा है।