20 लाख रुपए के इनामी नक्सली का सरेंडर:आंध्र प्रदेश में मुत्तानागरी जालंधर रेड्डी ने डाले हथियार, 10 साल पहले मलकानगिरी कलेक्टर को किया था अगवा

​​​​​​​जगदलपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आंध्र प्रदेश पुलिस के सामने 20 लाख रुपए के इनामी नक्सली मुत्तानागरी जालंधर रेड्डी ने सरेंडर किया। - Dainik Bhaskar
आंध्र प्रदेश पुलिस के सामने 20 लाख रुपए के इनामी नक्सली मुत्तानागरी जालंधर रेड्डी ने सरेंडर किया।

नक्सल मोर्चे पर मंगलवार को सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। आंध्र प्रदेश-ओडिशा बार्डर पर सक्रिय नक्सली जोनल कमेटी के सदस्य और MKB के डिवीजन सेक्रेटरी मुत्तानागरी जालंधर रेड्डी उर्फ कृष्णा ने सरेंडर कर दिया। उसने खुद को आंध्र प्रदेश पुलिस के हवाले कर दिया है। मुत्तानागरी जालंधर रेड्डी पर 20 लाख रुपए का इनाम था। उससे पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिलने की संभावना जताई जा रही है।

तेलंगाना में सीद्दीपट जिले के मीरूदोदी मंडल के भूमपल्ली निवासी मुत्तानागरी जालंधर रेड्डी को कृष्णा उर्फ मारणा उर्फ करुणा उर्फ सरथ जैसे कई नामों से जाना जाता है। सरेंडर के दौरान वह AOBSZC (आंध्र ओडिशा बॉर्डर स्पेशल जोनल कमेटी) का स्पेशल जोनल कमेटी सदस्य था। बताया जा रहा है कि छात्र जीवन के दौरान ही उसका झुकाव नक्सली संगठन की ओर हुआ और 1998 में उसने रेडिकल स्टूडेंट यूनियन जॉइन की।

इतनी जघन्य वारदातों को अंजाम दिया कि नक्सली संगठन में लगातार प्रमोट हुआ

मुत्तानागरी जालंधर रेड्डी के बारे में बताया जा रहा है कि वह काफी कुख्यात था। उसने लगातार इतनी जघन्य वारदातें की हैं, कि नक्सली संगठन में उसे प्रमोट किया जाता रहा। फरवरी 2011 में मलकानगिरी कलेक्टर विनिल कृष्णा के अपहरण में उसकी मुख्य भूमिका रही। दक्षिण तेलंगाना की स्पेशल नक्सली गोरिल्ला यूनिट में रहा। उसकी गतिविधियों को देखते हुए प्रमोट कर AOBSZC का जोनल सदस्य बनाया गया।

कई एंबुश लगाए, 19 मुठभेड़ में शामिल रहा, 7 हत्याएं भी की

इसके अलावा कृष्णा ने फोर्स और कुन्नूर व प्रकाक्षम जिले के कई पुलिस थानों पर हमले किए। साल 2008 में बेलीमाला एंबुश के दौरान उसका नेतृत्व किया। वहीं 5 अन्य एंबुश में भी शामिल रहा। जवानों के साथ हुई अलग-अलग 17 मुठभेड़ में शामिल रहा। इस दौरान आंध्र ओडिशा बॉर्डर AOBSZC में 7 लोगों की हत्याएं भी की। ऐसे ही 2004 में कोरापुट जिला मुख्यालय में पुलिस शस्त्रागार में लूट की।

खबरें और भी हैं...