पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Online Business Of Bastar Art, Demand Started Coming From All Over The Country In Three Months, Increased Income Of 150 People

मिला रोजगार:बस्तर आर्ट का ऑनलाइन बिजनेस, तीन महीने में ही देशभर से आने लगी मांग,150 लोगों की बढ़ी आमदनी

रायपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एनआईटी रायपुर और आईआईटी बेंगलुरु से दो पास आउट स्टूडेंट्स ने नौकरी के बजाए शुरू किया स्टार्ट-अप
  • इससे जुड़े हैं कोंडागांव, बस्तर और रायगढ़ के कलाकार

राज्य के ट्राइबल आर्ट को देशभर में पहुंचाने के लिए रायपुर के दो युवाओं द्वारा शुरू किया गया मिशन अब रंग लाने लगा है। वे आदिवासी कलाकारों को ऑनलाइन प्लेटफार्म मुहैया करा रहे हैं। तीन महीने पहले शुरू किए गए इस बिजनेस में कोंडागांव, बस्तर और रायगढ़ के लगभग 30 कलाकार जुड़ चुके हैं। एक कलाकार के साथ उनका पूरा परिवार इस बिजनेस में जुड़ा है। यानी बिजनेस से लगभग डेढ़ सौ लोग जुड़ चुके हैं। एनआईटी रायपुर से पास आउट 25 साल के अंकेश बंजारे और आईआईटी बेंगलुरु से पास आउट 25 साल के अभिनव सतपथी ने मिलकर हैंडमेड हैंड क्राफ्ट आइटम की ऑनलाइन बिक्री की शुरुआत की है। दोनों की एक वेबसाइट हैं, जिसके जरिए ढोकरा आर्ट ( बस्तर आर्ट भी कहा जाता है) के गिफ्ट आइटम, होम डेकोर और ज्वेलरी आइटम ऑनलाइन डिस्प्ले करते हुए सेल की जा रही है। यहां 100 रुपए से लेकर लगभग डेढ़ लाख तक के प्रोडक्ट उपलब्ध हैं। अंकेश ने बताया कि लॉकडाउन के दिनों में कारोबार थोड़ा प्रभावित हुआ था, लेकिन फिर से काम पटरी पर लौट रहा है। इस दौरान कुछ कलाकारों की माली हालत भी खराब हो गई थी, लेकिन अब उन्हें बेहतर काम मिल रहा है। फिलहाल भारत में ही यह बिजनेस चल रहा है, लेकिन बहुत जल्द अमेरिका में भी इसे शुरू किया जाएगा। अभी सिर्फ ढोकरा आर्ट के ही प्रोडक्ट ऑनलाइन उपलब्ध हैं, लेकिन आने वाले दिनों में बंबू आर्ट, वुडन आर्ट, राॅ आयरन आर्ट भी मिलने लगेंगे।

दो महीने तक लग जाते हैं एक प्रोडक्ट बनाने में
ढोकरा आर्ट के प्रोडक्ट तैयार करने में श्रम और समय दोनों काफी ज्यादा लगता है। छोटे प्रोडक्ट 7 से 8 दिन में तैयार होते हैं। लेकिन यदि यह 4 फीट से बड़ा हो तो इसे बनाने में 2 महीने तक का समय लग जाता है। कुछ कस्टमर कस्टमाइज प्रोडक्ट पसंद करते हैं। ऐसे प्रोडक्ट को बनाने में दो से ढाई महीने लग जाते हैं।

दिल्ली के फेलोशिप प्रोग्राम में हुई मुलाकात
अंकेश बंजारे ऐसे परिवार से ताल्लुक रखते हैं जहां नौकरी को प्राथमिकता दी जाती है। जबकि अभिनव सतपथी का परिवार बिजनेस में है। दोनों की मुलाकात 2018 में दिल्ली में हुए एक प्रोग्राम के दौरान हुई थी। उस समय दोनों फाइनल ईयर में थे। दोनों का चयन उस समय स्कूल फॉर सोशल एंटरप्रेन्योरशिप कार्यक्रम के लिए हुआ था। इसी दौरान इन्हें लोकल आर्ट को प्रमोट करने का आइडिया आया। इन्हें लगा कि इससे काफी लोगों को रोजगार दे पाएंगे और सपोर्ट कर पाएंगे। आज इस आइडिया को काफी पसंद किया जा रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें