• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Panchayat Secretary Assaulted In GPM; Nominated Case Registered Against 8 People, Case Related To Corruption Of Lakhs Of Rupees

GPM में पंचायत सेक्रेटरी की पिटाई का VIDEO:पंचों ने सरपंच के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव रखा, सचिव ने खारिज किया; ग्रामीणों ने हमला किया, आठ पर केस

पेंड्रा8 महीने पहले
पंचायत सचिव ग्रामीणों से बात कर ही रहे थी तभी अचानक उन पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया।

छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) जिले में ग्राम पंचायत सचिव के साथ मारपीट का मामला सामने आया है। ये मामला ग्राम पंचायत में लाखों रुपए के भ्रष्टाचार से जुड़ा हुआ है। पंचों ने सरपंच के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था, जिसे पंचायत सचिव ने खारिज कर दिया। इसी पर गुस्साए ग्रामीणों ने सचिव के साथ जमकर मारपीट की है।

मारपीट में घायल सचिव ने इसकी शिकायत मरवाही थाने में दर्ज कराई है। पुलिस ने जनपद सदस्य जगदीश खत्री, गणेश्वर पुरी, शिवमंगल सिंह, माधव सिंह, मानिकलाल, कन्हैया दुबे, तारालाल और जय सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया है।

पूर्व सचिव के साथ मिलीभगत कर पैसे निकालने का आरोप
ये पूरा मामला मरवाही के उसाढ़ गांव का है। यहां के सरपंच बहोर सिंह पर लाखों रुपए के भ्रष्टाचार करने का आरोप है। ग्रामीणों और पंचों ने बहोर सिंह पर पूर्व सचिव के साथ मिलीभगत कर बिना कोई काम कराए, फर्जी बिल लगाकर लाखों रुपए निकालने का आरोप है। इसके कारण ही बुधवार को पंचायत कार्यालय में बड़ी संख्या में ग्रामीण पहुंचे थे और पंचों ने सरपंच को हटाने अविश्वास प्रस्ताव लाया था।

ग्रामीणों ने सरपंच को हटाने पंचायत कार्यालय के पास जमकर नारेबाजी की।
ग्रामीणों ने सरपंच को हटाने पंचायत कार्यालय के पास जमकर नारेबाजी की।

पूर्व सचिव को हटा दिया गया था
ग्रामीणों ने बताया है कि इसी मामले में पूर्व सचिव को जिला पंचायत सचिव ने जांच के बाद हटा दिया था। उसके खिलाफ केस दर्ज करने के भी आदेश दिए थे। इसके बावजूद पूर्व सचिव के खिलाफ केस दर्ज नहीं किया गया। उन्हीं की जगह पर वर्तमान सचिव प्रवीण राय ने एक महीने पहले ही प्रभार लिया है। हम सरपंच को हटाना चाहते थे। इसलिए गांव के पंचों ने अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया था। लेकिन प्रवीण राय ने विश्वास प्रस्ताव को खारिज क गलत तरीके से स्थगन आदेश जारी कर दिया।

मौके से फरार हो गया था सरपंच
ग्रामीणों ने प्रवीण के सामने इस बात का विरोध भी किया था और उन पर पक्षपात करने का आरोप लगाया था। उसी दौरान प्रवीण का विवाद गांव वालों से होने लगा। जिसके बाद गांव वालों ने प्रवीण के साथ मारपीट कर दी। मारपीट के दौरान पुलिस कर्मी भी वहीं मौजूद थे, फिर भी ग्रामीणों को किसी ने नहीं रोका। इधर, घटना के दौरान सरंपच बहोर सिंह मौके से फरार हो गया था। बुधवार को पूरे दिन पंचायत कार्यालय में बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे और जमकर नारेबाजी करते रहे।

खबरें और भी हैं...