पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Popularity Ahead Of Ministers Like Nitish Kejriwal And Smriti Irani, Focus Policies On Rural Economy Have Increased In Stature

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

देश की 100 ताकतवर हस्तियों में 26वें नंबर पर भूपेश:नीतीश-केजरीवाल और स्मृति ईरानी जैसी मंत्रियों से भी लोकप्रियता में आगे, ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर फोकस नीतियों से बढ़ा कद

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • सूची में सबसे पहले पीएम मोदी, दूसरे पर गृहमंत्री अमित शाह

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोकप्रियता के मामले में ऊंची छलांग लगाई है और देश की 100 ताकतवर हस्तियों में 26वें नंबर पर पहुंच गए हैं। इस सूची में पहले नंबर पर पीएम मोदी, दूसरे पर गृहमंत्री अमित शाह और तीसरेे नंबर पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत हैं।

देश की सौ ताकतवर हस्तियों की सूची एक अंग्रेजी अखबार समूह ने अलग-अलग मापदंडों के आधार पर जारी की है। इस सूची में सीएम बघेल 2019 में 54वें नंबर पर हैं। सूची के साथ जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि भूपेश चुनिंदा कांग्रेस मुख्यमंत्रियों में से एक हैं।

देश की सौ ताकतवर हस्तियों में 26वें नंबर में शामिल किए गए सीएम भूपेश बघेल ने 11 राज्यों के मुख्यमंत्री और कई केंद्रीय मंत्रियों को पीछे छोड़ दिया है। सीएम बघेल जिन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से आगे हैं, उनमें दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान, आंध्रप्रदेश के सीएम वायएस जगनमोहन रेड्डी, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक, कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा, हरियाणा के सीएम मनोहरलाल खट्टर, तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव, गुजरात के सीएम विजय रूपानी, बिहार के सीएम नीतीश कुमार और झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन शामिल हैं। इनके अलावा केंद्रीय मंत्रियों में स्मृति ईरानी, डॉ. हर्षवर्धन, नरेंद्र सिंह तोमर, गजेंद्र सिंह शेखावत आदि शामिल हैं। वहीं इस सूची में सीएम भूपेश कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी से भी आगे हैं।

ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती देने की नीतियों से बढ़ा कद
छत्तीसगढ़ सरकार ने लॉकडाउन के बाद लौटे लोगों को रोजगार से जोड़ने का सबसे बड़ा काम किया। मनरेगा के तहत इस वर्ष अब तक 5.54 लाख परिवारों को 100 दिनों का काम दिया गया। इस मामले में छत्तीसगढ़ देश में पांचवें स्थान पर है।

मुख्यमंत्री बनने के बाद से सीएम बघेल का पूरा फोकस छत्तीसगढ़ के गांव, गरीब, किसान और आदिवासी ही रहे हैं। अपनी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए उन्होंने न सिर्फ गौठान बनाए वर्मी कंपोस्ट, गौ काष्ठ बनाकर बल्कि उन्हें आजीविका केंद्र के रूप में विकसित किया गया। इसी तर गोधन योजना के तहत सरकार गौ पालकों और लोगों से दो रुपए किलो में गोबर खरीद रही है। इस योजना के तहत अब तक लगभग 78 करोड़ रुपए का भुगतान भी किया जा चुका है। वहीं आदिवासी इलाकों और वन क्षेत्रों में होने वाले वनौषधियों की खरीदी के साथ ही तेंदूपत्ता संग्राहकों को चार हजार रुपए प्रति मानक बोरा दिया जा रहा है।

केंद्रीय नेतृत्व का भरोसा बढ़ा, तेजतर्रार छवि का मिला फायदा
सीएम बघेल पर कांग्रेस के केन्द्रीय नेतृत्व का भरोसा लगातार बढ़ा है। यही वजह है कि सीएम भूपेश को देश के सभी बड़े चुनावी राज्यों में प्रचार के लिए भेजा जा रहा है। बंगाल चुनाव में संयुक्त मोर्चा की पहली बड़ी रैली के लिए राहुल गांधी ने अपने प्रतिनिधि के रूप में भेजा। वहां उन्होंने एक अलग ही अंदाज में कांग्रेस का पक्ष रखा।

भूपेश के बोलने के अंदाज ने राष्ट्रीय नेतृत्व काे काफी प्रभावित किया। इसी तरह असम चुनाव के लिए उन्हें अहम जिम्मेदारी दी गई, जहां सीएम ने अपनी पूरी टीम झोंक दी है। असम में इसके सकारात्मक परिणाम आने के संकेत हैं। सीएम बघेल जितना ग्रामीण परिवेश में रहना और क्षेत्रीय लोगों के बीच घुल-मिल जाना पसंद करते हैं, वहीं उनकी तेजतर्रार छवि का भी विपक्षियों पर प्रभाव दिखता है। वे जितना सहज और सरल तरीके से गांव के लोगों के बीच चले जाते हैं, उतनी ही आक्रामकता के साथ विपक्ष पर हमला बोलते हैं।

उपलब्धि से प्रदेशवासी गौरवान्वित: कांग्रेस
कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि सीएम बघेल ने देश के 100 शक्तिशाली लोगों में 26वां स्थान हासिल कर प्रदेश के पौने तीन करोड़ लोगों को गौरवान्वित किया है। तिवारी ने कहा कि किसान पुत्र बघेल ने सीएम बनने के बाद से गांव, गरीब और किसानों पर अपना पूरा फोकस किया। उनके हक की लड़ाई लड़ी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें