बिगड़ी नीयत तो रची लूट की कहानी:व्यवसायी ने उधारी के एक लाख रुपए लौटाने के लिए मुंशी को दिए, रास्ते में लेनदार के कर्मचारी के साथ मिलकर हड़प लिए; 3 गिरफ्तार

रायपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक व्यवसायी को अपने मुंशी पर विश्वास करना ही महंगा पड़ गया। व्यवसायी ने मुंशी को उधारी के एक लाख रुपए लेकर लेनदार को देने भेजे थे। मगर मुंशी ने लेनदार के ही कर्मचारी के साथी पैसे हड़प लिए और व्यवसायी को लूट की झूठी कहानी बता दी। व्यवसायी ने जब शिकायत की तो 3 लोग पकड़े गए हैं। मामला धरसींवा थाना क्षेत्र का है।

पुलिस ने गिरफ्तार किए आरोपियों का नाम हैदर अली, खालिद और भूपेंद्र बताया है। हैदर व्यवसायी का ही मुंशी था। जबकि भूपेंद्र लेनदार का कर्मचारी है। जिसे हैदर को पैसे हैंडओवर करने थे। वहीं, खालिद हैदर का साथी है। पुलिस अभी तीनों से पूछताछ कर रही है।

व्यवसायी ने पैसा लौटाने सिलतरा भेजा

दरअसल, रायपुर के मोवा में रहने वाली आमिर खान व्यवसायी हैं। वो मोवा इलाके में ही व्यवसाय करते हैं। आमिर ने कुछ महीने पहले कवर्धा निवासी रसीद खान से 1 लाख 11 हजार रुपए उधार लिए थे। इसी रकम को वापस करने आमिर ने मंगलवार को अपने मुंशी हैदर को सिलतरा भेजा था। आमिर ने हैदर से कहा था कि सिलतरा में उसे भूपेंद्र मिलेगा, वो राशिद का कर्मचारी है। उसे जाकर ये रकम दे देना।

रायपुर में बीच चौक शराब की महफिल, VIDEO:रात 8 बजे सड़क पर बोतल खोलकर बैठ गए शराबी; थोड़ी देर बाद शर्ट भी उतारी, वाहन चालकों से गालीगलौज की

हैदर ने खुद पर हथियार से वार किया

इसी बीच करीब 2 बजे हैदर का आमिर को फोन आया और उसने कहा कि साहब मेरे साथ लूट हो गई है। हैदर ने बताया कि कोई 2 से तीन बाइक सवार लोग रास्ते में आए और मुझसे पैेसे से भरा लेकर भाग गए हैं। हैदर ने आमिर से यह भी बताया कि बाइक सवारों ने उसे धारदार हथियार से हमला करने की धमकी देकर उसके साथ लूट की है। इतना ही नहीं हैदर ने आमिर को गुमराह करने के लिए अपने आप पर हथियार से वार किया था। हैदर की यह सब बात सुनकर आमिर परेशान हो गया और उसने पूरे मामले की शिकायत धरसींवा थाने में की ।

पूछताछ हुई तो बयान बदलता रहा

शिकायत होने पर धरसींवा पुलिस ने मुंशी हैदर को भी अपने पास थाने में बुला लिया। पूछताछ में हैदर ने लूट की बात बताई। लेकिन पुलिस को उस पर शक था, इसलिए पुलिस उससे बार बार अलग-अलग बिंदुओं पर पूछताछ करती रही। पूछताछ में हैदर बार-बार अपना बयान बदलता रहा। आखिरकार उसने कबूल कर लिया कि उसने भूपेंद्र और खालिद के साथ मिलकर लूट की झूठी कहानी रची थी। हैदर ने बताया कि तीनों मिलकर पैसों को आपस में बांटना चाहते थे। जिसके बाद पुलिस ने हैदर को गिरफ्तार कर लिया और उसकी ही निशानदेही पर भूपेंद्र, खालिद को भी पकड़ लिया गया है। पुलिस ने आरोपियों से 1 लाख 11 हजार रुपए भी जब्त किेए हैं।

खबरें और भी हैं...