पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऐसी ही पहल से तो हारेगा कोरोना...:साहू समाज ने लिया बड़ा फैसला- अब शादी, जन्म या मौत के बाद सामूहिक भोज पर रोक

राजनांदगांवएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर राजनांदगांव की है। गुरुवार को सामाज के लोगों ने आपस में चंदा करके एक एम्बुलेंस भी खरीदी है जो कोविड मरीजों को मुफ्त सेवा दे रही है। - Dainik Bhaskar
तस्वीर राजनांदगांव की है। गुरुवार को सामाज के लोगों ने आपस में चंदा करके एक एम्बुलेंस भी खरीदी है जो कोविड मरीजों को मुफ्त सेवा दे रही है।

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के साहू समाज ने एक बड़ा फैसला किया है। समाज की ये पहल पूरे देश के लिए मिसाल के तौर पर देखी जा सकती है। समाज के लोगों ने तय किया है कि शादी, या किसी की अंत्येष्टि पर होने वाले सामूहिक भोज अब नहीं होंगे। ऐसा कोरोना संक्रमण के रिस्क को देखकर किया जा रहा है। समाज के लोगों ने कहा है कि बढ़ते संक्रमण की वजह से हम कोशिश कर रहे हैं कि किसी भी तरह से भीड़ जुटने के हालातों से बचा जा सके।

ये भी फैसला लिया गया है कि शासन-प्रशासन के गाइडलाइन अनुसार विवाह, अंत्येष्टि, दशगात्र जैसे कार्यक्रम तो होंगे। मगर छट्ठी या जन्मोत्सव जैसे कार्यक्रम नहीं किए जाएंगे। ये फैसला अमल में भी लाया जाए इसलिए तहसील और समाज की ग्राम इकाई के लोगों को जिम्मा सौंपा गया है।

सर्कुलर जारी
जिला साहू संघ के अध्यक्ष कमल किशोर साहू, महामंत्री अमरनाथ साहू ने बताया कि वर्तमान में स्थितियों को देखते हुए सामाजिक तौर पर सार्वजनिक भोज नहीं कराए जाने की अपील की गई है। इस संबंध में एक सर्कुलर भी सभी तहसील और परिक्षेत्र के प्रमुखों को जारी कर दिया गया है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हर दिन 15 हजार के आस-पास मरीज मिल रहे हैं। मौतों का ग्राफ भी बढ़ा है इस वजह से जिला स्तर पर ये फैसला हमने किया है।

अफवाह और अंधविश्वास से दूर रहकर टीका लगवाने की अपील
जिला अध्यक्ष कमल किशोर साहू ने सामाज के लोगों से अपील की है कि कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण कराना जरूरी है। किसी भी तरह की अफवाह व तरह-तरह के फैल रहे अंधविश्वासों से दूर रहने को कहा है। इसके लिए भी समाज गांव में अभियान चला रहा है। जिला युवा प्रकोष्ठ के हर्ष मधु साहू ने बताया कि युवाओं की टीम कोविड मरीजों की सेवा का काम कर रही है। जरूरतमंद लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...