पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Visible Humanity; Doctors Could Not See The Pain Of Pregnant Woman, Delivery Done By Wearing PPE Kit, Mother child Both Safe

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुस्कुराई जिंदगी:दिखाई मानवता; गर्भवती महिला का दर्द नहीं देख सके डॉक्टर पीपीई किट पहनकर कराया प्रसव, जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित

कुकदूर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रसव के बाद नवजात बच्चे को गोद में लिए स्टाफ। - Dainik Bhaskar
प्रसव के बाद नवजात बच्चे को गोद में लिए स्टाफ।
  • संक्रमित प्रसूता ने कहा- प्रसव पीड़ा असहनीय, कवर्धा 50 किमी दूर है, मैं नहीं पहुंच पाऊंगी

कोरोना संक्रमण के दौरान जहां हमें मानवीय संवेदनाओं को शर्मसार करती तस्वीरें देखने को मिल रही हैं, वहीं कई ऐसे उदाहरण भी सामने आ रहे हैं, जो इस संक्रमण के समय में भी हमें सुकून का अहसास भी कराते हैं। ऐसा ही वाक्या रविवार शाम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुकदूर में देखने को मिला।

जब ग्राम पंचायत तेलियापानी धोबे की गर्भवती ज्योति बाई पति वीरासिंह धुर्वे (22) प्रसव के लिए अस्पताल पहुंची। एंटीजन जांच में उसकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। उसे देखकर सबको डर लग रहा था कि कहीं स्टाफ संक्रमित न हो जाए। तभी गर्भवती महिला दर्द से चीखती कराहती हुई बोली कि मुझे बचा लो। मुझसे दर्द सहन नहीं हो रहा। मेरे से प्रसव पीड़ा सहन नहीं हो रही है। मुझे रेफर मत करना। यहां से कवर्धा तो 50 किलोमीटर दूर है। मैं नहीं पहुंच पाऊंगी। अस्पताल में तैनात स्टाफ उस महिला का दर्द नहीं देख सके। देरी न करते हुए मेडिकल ऑफिसर डॉ. प्रसंगिना साधु ने सेकंड एएनएम राजकुमारी और एएनएम दिनेश्वरी साहू के साथ पीपीई किट पहनकर महिला का सुरक्षित प्रसव कराया। जच्चा- बच्चा दोनों सुरक्षित बताए जा रहे हैं।

कोविड हॉस्पिटल भेजने की स्थिति नहीं थी
मेडिकल ऑफिसर डॉ. प्रसंगिना साधु बताती हैं कि जब गर्भवती महिला अस्पताल आई थी, तब वह दर्द से कराह रही थी। उसका प्रसव नजदीक आ चुका था। पॉजिटिव आने पर प्रोटोकॉल के अनुसार उसे कोविड हॉस्पिटल भेजा जाना था, लेकिन महिला की स्थिति ऐसी नहीं थी कि उसे तुरंत रेफर किया जा सके। आपातकालीन स्थिति को देखते हुए कुकदूर अस्पताल में ही उसका प्रसव कराया गया।

कोरोनाकाल में 7 से अधिक संक्रमितों का हुआ प्रसव
कोरोना संक्रमित गर्भवतियों काे प्रसव के लिए कोविड हॉस्पिटल कवर्धा लाया जाता है। लॉकडाउन के दौरान अस्पताल में अब तक 7 से अधिक संक्रमित गर्भवतियों का सफल प्रसव कराया गया है। वहीं मार्च 2020 में लॉकडाउन के दौरान भी 21 से अधिक गर्भवती महिलाओं की जचकी हुई थी। इस प्रकार डॉक्टर व नर्स कोरोना संक्रमित गर्भवती महिलाओं का सुरक्षित प्रसव करावा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

    और पढ़ें