पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पानी का उचित व्यवस्था नहीं:नाले का पानी रोककर पूर्व सरपंच ने बनाया अस्थायी जलाशय

अंकिरा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

एक पूर्व सरपंच ने अपने कार्यकाल में लाख कोशिश करने के बावजूद पानी का उचित व्यवस्था नहीं करा सका। लोगों के लिए पानी की व्यवस्था नहीं पाने पर उसने जिद कर लिया कि वह बीना किसी सरकारी सहायता से ग्रामीणों के निस्तारी के लिए पानी की व्यवस्था करेगा।

ग्रामीणों के सहयोग से पूर्व सरपंच के द्वारा शुरू की गई पहल आज आसपास के दर्जनों टोले-माजरे के लोगों को पानी की समस्या से राहत मिल गई है एवं क्षेत्र के ग्रामीणों ने स्वंय मेहनत कर अस्थाई जलाशय भी बना लिया है।जिससे निस्तारी के साथ-साथ अपने बाड़ी में लगे साग सब्जी के फसल की सिंचाई भी कर रहे हैं। विकासखंड फरसाबहार के ग्राम पंचायत कोरंगामाल के भालूमुंडा क्षेत्र के ग्रामीणों ने ऐसा कर दिखाया। ग्रामीणों के द्वारा खारून नाला में बनाए गए जलाशय के सामने लाखों रूपये खर्च कर अनेक विभागों के द्वारा बनाए गए स्टापडेम बौने साबित हो रहे हैं। लगभग 20 वर्षों से क्षेत्र के ग्रामीण मिलकर हर साल यहां जलाशय का निर्माण करते हैं। इनके द्वारा मिट्‌टी देकर बनाए गए मेड़ बरसात के दिनों बाढ़ के कारण बह जाता है। बरसात के बाद नाला में पानी कम होते ही क्षेत्र के लोग पुनः निर्माण करते हैं।

इसकी शुरुआत तत्कालीन सरपंच भालुमुंडा निवासी गुलबदन छतरिया के नेतृत्व में की गई थी। उस समय इस क्षेत्र के लोगों को पानी के लिए परेशानी का समाना करना पड़ रहा था। कुआं एवं गांव में बने एक-दो छोटे तालाब सूख जाने से लोगों को पेयजल सहित निस्तारी के लिए बड़ी कठिनाई होती थी। जिसके लिए सरपंच के द्वारा संबंधित अधिकारियों के पास कई बार गुहार लगाई गई। लेकिन आश्वासन के सिवाय कुछ नहीं मिला और सरपंच का कार्यकाल भी समाप्त हो गया।सरपंच ने अपने कार्यकाल में ग्रामीणों के निस्तारी के लिए पानी की व्यवस्था नहीं करा पाने पर वह दुखी हो गया और उसने जिद कर लिया था कि वह ग्रामीणों के लिए बीना सरकारी मदद से लोगों के लिए पानी की समस्या का हल करेगा।

ग्रामीणों ने दिया साथ और हो गया समस्या का समाधान
तत्कालीन सरपंच का कार्यकाल समाप्त होने के बाद सरपंच के नेतृत्व में भालुमुंडा के 20-25 ग्रामीणों ने बैठक कर पानी बचाने का निर्णय लिया एवं उन्होंने बगैर सरकारी सहायता से स्वयं पानी की समस्या दूर करने की ठान ली एवं दूसरे दिन ही गांव के महिला-पुरूष मिलकर एक ही दिन में अस्थाई जलाशय तैयार कर ली।उनके साथ-साथ आस-पास टोले-माजरे के ग्रामीण भी यहां के पानी से निस्तारी का कार्य करते है।इसके बाद ग्रामीण हर वर्ष अस्थाई जलाशय बनाने का सिलसिला प्रारंभ कर दिया है। जिसमें आस-पास के टोले-मजरे के ग्रामीण भी उनका साथ दे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें