धार्मिक आस्‍था:मन्नत पूरी करने जवारा उठाए महिलाओं के सामने लेटे लोग

बलौदा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नैया तालाब में जवारा विसर्जन। - Dainik Bhaskar
नैया तालाब में जवारा विसर्जन।

क्षेत्र के प्रसिद्ध मां सरई श्रृंगारिणी देवी मंदिर डोंगरी में गुरुवार को जवारा का विसर्जन किया गया। विसर्जन में सैकड़ों की संख्या में लोग शामिल हुए। परंपरानुसार मां सरई श्रृंगारिणी देवी मंदिर में मांदर की थाप पर सफेद और नए कपड़ों में गांवों के बैगा और बैगिन द्वारा जवारा निकाला गया।

सेवा समिति सरई श्रृंगारिणी देवी धाम के अध्यक्ष मनोहर सिंह एवं सचिव कमल किशोर सिंह ठाकुर ने बताया कि यहां परंपरा के अनुसार जवारा कलश को महिलाएं अपने सिर पर रखकर यहां से लगभग 2 किमी दूर डोंगरी की बस्ती जाती हैं।

डोंगरी के ठाकुरदिया में पूजा अर्चना के पश्चात ठाकुर परिवार के यहां पूजा की जाती है, उसके पश्चात नैया तालाब में जवारा को विसर्जित किया जाता है। इस दौरान रास्ते भर ग्रामीण महिला पुरुष मनोकामना की पूर्ति के लिए जवारा के सामने लेट जाते हैं।

खबरें और भी हैं...