पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मवेशियों को चारा:जगह-जगह रखे कोटनों में नगरवासी डाल रहे हैं चारा ताकि लॉकडाउन में भूखे न रहें मवेशी

चांपाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मवेशियों के लिए पैराकुटी, पानी, हरी सब्जियों के अवशेष रोज डाल रहे

लॉकडाउन में जहां एक तरफ लोग असहाय व कमजोर वर्ग की मदद कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ नगर के आवारा मवेशियों को भोजन कराया जा रहा है। पिछले साल लॉकडाउन के दौरान बाजोरिया फाउंडेशन द्वारा मवेशियों के लिए नगर के अलग-अलग हिस्सों में कोटना रखा गया था। जिसमें मवेशियों के लिए पैरा कुटी से लेकर चावल का पानी, सब्जियों व फलों के छिलके मवेशियों को रोजाना लोग मिलकर खिला रहे हैं।

बाजोरिया फाउंडेशन के संचालक शैलेश बाजोरिया ने शहर के प्रमुख चौक चौराहों पर कोटना रख कर लोगों से पशुओं के लिए चारा डालने की अपील की थी। अपील का लोगों पर असर हुआ है। लोग पैरा कुटी खरीद कर मवेशियों को खिला रहे हैं। चावल का पानी नाली में बहाने की बजाय मवेशियों के लिए कोटना में डाला जा रहा है। इसी तरह सब्जियों के छिलके भी गली मोहल्लों में फेंकने व स्वच्छता दीदी को देने की बजाय मवेशियों को खिलाया जा रहा है। लॉकडाउन नगर में व्यवसायिक प्रतिष्ठानें व सब्जी मंडी आदि बंद होने के कारण मवेशियों को पर्याप्त चारा नहीं मिल पा रहा है।

खबरें और भी हैं...