पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लेटलतीफी:6 माह से स्कूल भवन का निर्माण कार्य बंद, जो हुआ वह भी हो रहा क्षतिग्रस्त

देवरी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 67 लाख से हो रहा है भवन का निर्माण
  • भुगतान पूरा होने पर भी अधूरा पड़ा भवन

नगर में शासकीय बालक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में जगह अभाव और क्षतिग्रस्त होने के कारण एक शासन ने नवीन भवन निर्माण के लिए 67 लाख रुपए की स्वीकृति देकर स्कूल परिसर में ही भवन का निर्माण कार्य चालू करवाया था,लेकिन समय सीमा निकल जाने के बाद भी भवन का निर्माण कार्य अधूरा पड़ा हुआ है। जानकारी के मुताबिक मार्च में भवन को हेंड ओवर करना था लेकिन जून शुरू होने के बाद भी न तो निर्माण कार्य चालू हो सका है न अभी शुरू होने के आसार लग रहे हैं।

जब इस सम्बन्ध में ठेकेदार धर्मेंद्र रघुवंशी से निर्माण कार्य में हो रही देरी का कारण जानना चाहा तो उन्होंने मूड नहीं होने के कारण भवन निर्माण कार्य चालू नहीं होने की बात कही है। वहीं जो निर्माण कार्य अभी तक हुआ है वह भी जगह जगह से क्षतिग्रस्त हो रहा है।

दीवारों में दरारें आ रही है तो पिलर भी क्षतिग्रस्त हो रहे हैं। भवन की छत डालने के अलावा 60 प्रतिशत काम अभी भी बाकी है। शुक्र इस बात का है कि अभी स्कूल नहीं लग रहें हैं जिससे छात्रों का आना जाना नहीं हो रहा है। आगामी महीने में जेसे ही छात्रों का आना शुरू होगा तक उन्हें ओर स्कूल स्टाफ को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।
नए भवन का कैसे हो रहा मूल्यांकन और भुगतान
नए भवनका निर्माण कौन कर रहा है और कब तक पूरा होना था, कम पूरा होगा। इन प्रश्नों के जवाब स्कूल प्रबंधन के पास भी नहीं हैं। वहीं जानकारी के मुताबिक पीआई यू इस भवन का निर्माण करवा रही है और इसी विभाग के अफसरों और इंजीनियरों द्वारा निर्माण की क्वालिटी चेक कर मूल्यांकन करना है,लेकिन अफसर बिना मौके पर जाकर ठेकेदार के कागजों की सही मान रहे हैं जिसके आधार पर ही कार्य का मूल्यांकन कर भुगतान करवा रहे हैं। जिसका परिणाम यह है की ठेकेदार भवन निर्माण में मनमानी कर रहा है। जिससे भवन निर्माण में देरी हो रही है।
जल्द होना चाहिए निर्माण कार्य
भवन का निर्माण कार्य जल्द से जल्द होना चाहिए ताकि आने वाले सत्र में भवन का लाभ छात्रों को मिल सके। निर्माण कार्य अभी भी अधूरा पड़ा हुआ है जबकि मार्च में हेड ओवर करने की बात ठेकेदार ने कही थी। विभागीय अफसरों को इस ओर ध्यान देना चाहिए।
-आई एस चंदेल, प्राचार्य

भवन बनाने का अभी मूड नहीं
विभाग से भुगतान तो हो चुका है,लेकिन भवन निर्माण सामग्री नहीं मिल रही है। इसलिए काम रुका पड़ा हुआ है। फिलहाल मेरा भवन बनाने का मूड नहीं है।
-धर्मेंद्र रघुवंशी, ठेकेदार

जल्द शुरू करवाएंगे काम
आपसे भवन निर्माण अधूरा होने की जानकारी मिली है। जांच करवाकर पता करते हैं कि काम क्यों रुका पड़ा है। जल्द से जल्द भवन निर्माण कार्य चालू करवाया जाएगा।
-संदीप चितवर, एसडीओ पीआई यू रायसेन

खबरें और भी हैं...