पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नियमों का गलत फायदा:10 फीट के रावण को 15 फीट ऊंचे स्टैंड पर रखा, अफसर ने नीचे उतरवाया

जांजगीरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सरकार ने व स्थानीय प्रशासन ने रावण दहन के लिए रावण के पुतले की ऊंचाई दस फीट तो तय कर दी, लेकिन इसका ध्यान नहीं रखा गया कि यदि उसे स्टैंड में खड़ा किया जाए तो ऊंचाई कितनी हाेनी चाहिए। गाइड लाइन में इसका उल्लेख नहीं होने के कारण जांजगीर में रावण का पुतला तो दस फीट का ही लिया पर उसे खड़े करने के लिए पंद्रह फीट ऊंचा स्टैंड बना दिया, जानकारी मिलने प्रशासनिक अफसर ने उसे नीचे उतरवाया। काेराेना संक्रमण के कारण तीज त्याेहार पर विशेष गाइड लाइन जारी की है। शारदीय नवरात्रि पर भी देवी की स्थापना करने के लिए शर्तों की झड़ी लगा दी थी, जिससे नगरीय निकायों में मां भगवती की प्रतिमा ही स्थापित नहीं की गई। दशहरा के दिन रावण जलाने के लिए भी जिला दंडाधिकारी ने गाइड लाइन जारी की, जिसमें रावण के पुतले के साइज के लिए स्पष्ट गाइड लाइन थी कि पुतला किसी भी हालत में दस फीट से बड़ा नहीं होना चाहिए। इसके अलावा कार्यक्रम स्थल में केवल 50 लोगों की उपस्थिति, बेरिकेडिंग, कार्यक्रम में आने वालों के नाम व मोबाइल नंबर, सीसी कैमरा लगाना व वीडियोग्राफी कराना होगा। ऐसे तमाम प्रतिबंध लगाए थे, जिससे जिले के किसी भी नगरीय निकाय में रावण दहन करने के लिए अनुमति नहीं ली। जांजगीर जिला मुख्यालय में बाकायदा इसकी अनुमति ली गई और 50 लोगों की सूची भी प्रशासन को दी गई।

पुतले को ऊंचा दिखाने का प्रयास
गाइडलाइन में प्रतिमा की ऊंचाई 10 फीट तय की थी, पर कहीं पर भी इसका उल्लेख नहीं था कि पुतले को स्टैंड कितना ऊंचा होगा। ऐसे में 15 फीट ऊंचे स्टैंड बना दिया गया।

प्रशासन ने नीचे उतरवाया पुतला
स्टैंड ऊंचा होने की सूचना किसी ने प्रशासनिक अधिकारियों को दी तो अधिकारी पुतला को स्टैंड से उतरवाने के लिए तैयारी में लग गए। अफसर ने फोन कर पुतला स्टैंड से नीचे उतारने कहा तो दशहरा आयोजन समिति के सदस्यों ने पुतला नीचे उतार दिया।

रात होने से पहले ही किया दहन
अमूमन जिला मुख्यालय में दशहरा की रात को 10 बजे के आसपास ही पुतला दहन होता है, किंतु इस बार ऐसा नहीं हुआ। रात होने से पहले रावण का पुतला दहन किया गया।

कोरोना का खौफ, सैनिटाइजर लेकर चले लक्ष्मण
यह भी अनिवार्य किया गया था कि कार्यक्रम स्थल पर आने वालों के लिए सैनिटाइजर व मास्क जरूरी होगा। बस्ती से राम, लक्ष्मण, हनुमान की झांकी एक रथ में निकली। इस दौरान बैंड बाजा या फिर धुमाल, लाउडस्पीकर तो नहीं बजे, लेकिन कोरोना का खौफ सब पर दिखा। लक्ष्मण ने अपनी कमरबंद में सैनिटाइजर लटका रखा था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- रचनात्मक तथा धार्मिक क्रियाकलापों के प्रति रुझान रहेगा। किसी मित्र की मुसीबत के समय में आप उसका सहयोग करेंगे, जिससे आपको आत्मिक खुशी प्राप्त होगी। चुनौतियों को स्वीकार करना आपके लिए उन्नति के...

और पढ़ें