पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पितृ पक्ष का समापन आज:सर्व पितृ अमावस्या शुरू, 15 दिनों तक पूर्वजों का श्राद्ध कर्म और तर्पण नहीं कर पाए हैं तो आज करें

जांजगीर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुत्र या नाती आज पितरों को कर सकते हैं पिंडदान

इस समय पितृ पक्ष चल रहा है। ऐसे समय में पितरों का तर्पण और श्राद्ध किया जाता है ताकि वे तृप्त हो सकें। पितृ पक्ष में सर्व पितृ अमावस्या का विशेष महत्व होता है। इस दिन पितर विदा होते हैं और अपने संतानों को आशीर्वाद देते हैं। आश्विन मास की अमावस्या को सर्व पितृ अमावस्या कहा जाता है। इसे महालया अमावस्या भी कहते हैं। पं. राघवेंद्र पांडेय के अनुसार इस वर्ष सर्व पितृ अमावस्या 17 सितंबर गुरुवार को है, क्योंकि अमावस्या 16 सितंबर की रात 7.58 बजे से लग गई है।

सुख, शांति के लिए भी पितरों का तर्पण जरूरी
पंडित राघवेंद्र पांडेय के अनुसार इस दिन पितर विदा होते हैं, इसलिए इसे पितृ विसर्जिनी अमावस्या भी कहा जाता है। पुत्र, नाती या अविवाहित कन्य पितरों को पिंडदान करतेा है। यमलोक से आए पितर अपने वंश से तर्पण, पिंडदान की उम्मीद करते हैं। यदि उनको यह प्राप्त नहीं होता है तो वे दुखी और अतृप्त होकर वापस लौट जाते हैं। फिर उस परिवार में सुख, ऐश्वर्य, शांति नहीं रहती है।

आज करें उनका श्राद्ध जिनके तिथि नहीं मालूम
सर्व पितृ अमावस्या या महालया अमावस्या के दिन उन​ पितरों का श्राद्ध कर्म किया जाता है, जिनके निधन की तिथि मालूम नहीं होती है। इस तिथि को अपने पितरों को तृप्त करके खुशी पूर्वक विदा किया जाता है। किसी कारणवश जो लोग पितृ पक्ष में 15 दिनों तक श्राद्ध कर्म और तर्पण नहीं कर पाते हैं, वे सर्व पितृ मोक्ष अमावस्या को तर्पण एवं श्राद्ध कर्म करते हैं।

ऐसे करें पितरों का तर्पण
सर्व पितृ अमावस्या के दिन दक्षिण दिशा की ओर मुखकर के जल में श्वेत पुष्प और काला तिल डालकर पितरों का तर्पण करें। ऐसा करने से परिवार में सुख एवं समृद्धि आती है। तर्पण के बाद आसमान की ओर हाथ ऊपर करके पितरों को प्रणाम करें। फिर उनको श्रद्धा पूर्वक भोजन दें। भोजन का कुछ अंश कौआ को दे दें। फिर ब्राह्मणों या गरीबों को भोजन कराकर दक्षिणा दें और विदा करें।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें