पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छठ महापर्व:अलसुबह ही पहुंचे घाट पर बदली के कारण सूरज को अर्घ्य देने करना पड़ा थोड़ा इंतजार

जांजगीर- चाम्पा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • घाटों पर नहीं बांटा गया छठ का महाप्रसाद, अर्घ्य देकर तोड़ा 36 घंटे का निर्जला उपवास

जिले में छठ महापर्व उल्लास से मनाया गया। शनिवार की सुबह भगवान भुवन भास्कर को छठ घाटों में अर्घ्य दिया गया। अल सुबह 5 बजे से पहले ही व्रती महिलाएं परिवार सहित घाटों में पहुंच गईं थी तो कुछ लोग देर तक भी पहुंचे। वहीं बादल हाेने के कारण सूर्योदय होने का इंतजार करना पड़ा। जांजगीर के रामप्रसाद तालाब किनारे बांस के बेरिकेड्स लगाकर विशेष व्यवस्था की गई थी। यहां घाट में केवल व्रती महिलाएं ही पहुंचीं। छठ पूजा अब केवल पूर्वांचल का ही नहीं बल्कि अपने प्रदेश के साथ ही जिले में भी उल्लास से मनाया जाने लगा है। यहां भी लंबे समय से बाहर से आकर लोग रहने लगे हैं जो परंपरागत रूप से इस पूजा को करते हैं। जांजगीर, चांपा, अकलतरा, बाराद्वार, सक्ती में भी छठ पूजा की जाती है। चांपा में हसदेव नदी में डोंगाघाट, केराझरिया व अन्य घाटों में शनिवार की सुबह उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर व्रत की पूर्णता की गई। इसी के साथ चार दिवसीय छठ पूजा और 36 घंटे का निर्जला उपवास पूरा हुआ। व्रतियों ने प्रसाद ग्रहण कर अपना उपवास तोड़ा।

रामप्रसाद और भीमा तालाब में छठ की पूजा
जांजगीर-नैला में रामप्रसाद तालाब के अलावा भीमा तालाब में भी छठ की पूजा की गई। इस महापर्व को यहां के ब्राह्मण समाज, मारवाड़ी समाज सहित कई अन्य समाजों के लोग भी मानने लगे हैं अर्घ्य देने के बाद व्रती महिलाओं ने भुवन भास्कर को ठेकुवा का प्रसाद लगाया, लेकिन कोविड संक्रमण को देखते हुए यहां प्रसाद नहीं बांटा गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें