भास्कर फालोअप:भास्कर ने बताई थी समस्या, होम डिलीवरी की सुविधा नहीं होने से खुल रही थी दुकानें इसलिए अब पामगढ़ क्षेत्र में होम डिलीवरी शुरू

जांजगीर-मुलमुला6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पामगढ़ जनपद के गांवों में  डिलीवरी ब्वॉय को दिया गया पास। - Dainik Bhaskar
पामगढ़ जनपद के गांवों में डिलीवरी ब्वॉय को दिया गया पास।
  • सीईओ ने जारी किया आदेश, होम डिलीवरी करने वालों के लिए जारी किया गया पास

पामगढ़ क्षेत्र के गांवों में होम डिलीवरी की सुविधा नहीं होने के कारण कुछ गांवों में लोग किराना दुकान खोलकर सामान बेचने लगे थे। मुलमुला क्षेत्र के ग्राम कोनार में कोरोना संक्रमित वार्ड की दुकान खुलने की खबर भी प्रकाशित की थी। इसके बाद जनपद पंचायत पामगढ़ के सीईओ ने क्षेत्र के लगभग सभी ग्राम पंचायतों में किराना दुकानदारों को होम डिलीवरी की सुविधा दी गई है।

जिला दंडाधिकारी द्वारा 13 अप्रैल से जिले को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। पहले तो जिले भर में कहीं भी राशन सामान की होम डिलीवरी की सुविधा नहीं थी, बाद में संशोधन करते हुए नगरीय निकायों में तो राशन सामान की होम डिलवरी की सुविधा दी गई है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों के लिए राशन सामान की व्यवस्था कैसे होगी इसके संबंध में कोई स्पष्ट आदेश नहीं है। जिसके कारण दुकानें बंद हैं और जिले की सभी ग्राम पंचायतों में लोगों को राशन सामान के लिए भटकना पड़ रहा है।

सामान की जरूरत लोगों को है और बेचने की मजबूरी दुकानदार की है, इसलिए रात में या फिर बैक डाेर से सामान की सप्लाई भी जरूरत के हिसाब से हो रही है। कुछ जगहों पर राशन दुकान खुलने की भी शिकायतें आई है। मुलमुला क्षेत्र के ग्राम पंचायत कोनार में ही दुकानें खोली गई थी। जिसे दैनिक भास्कर ने 27 अप्रैल के अंक में प्रमुखता से प्रकाशित किया था और दुकान खोलने की वजह भी बताई थी। इसके बाद जनपद पंचायत पामगढ़ के सीईओ एलके कौशिक ने अपने क्षेत्र के सभी 65 ग्राम पंचायतों के लिए चुनिंदा 246 दुकानों को लोगों के घरों तक ऑर्डर पर सप्लाई करने की अनुमति दे दी है।

हाेम डिलीवरी करने वालों को किया गया पास जारी

मंगलवार को होम डिलीवरी का आदेश जारी किया गया। आदेश में दुकान संचालक का नाम, उसका मोबाइल नंबर जारी किया गया है ताकि कोई भी व्यक्ति फोन लगाकर सामान मंगा ले। बुधवार को होम डिलीवरी करने वालों को पास भी जारी किया गया।

अन्य जनपदों में भी हो व्यवस्था

अभी पामगढ़ जनपद क्षेत्र से ही होम डिलीवरी की सुविधा मिली है। पर राशन सामान की समस्या सभी क्षेत्रों में है, इसलिए यह व्यवस्था अन्य जनपद क्षेत्रों के भी एसडीएम व जनपद के सीईओ को बनानी चाहिए ताकि राशन सामान के लिए भटकना न पड़े।

खबरें और भी हैं...