पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हमारी सुरक्षा भगवान भरोसे:डिप्टी कलेक्टर व डॉक्टर के घरों के टूटे ताले, नर्स के बंद घर से जेवर पार

जांजगीर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चोरों का पता लगाने में जुटा डॉग स्क्वॉयड। - Dainik Bhaskar
चोरों का पता लगाने में जुटा डॉग स्क्वॉयड।
  • डॉक्टर व कर्मचारियों के घर पर चोरों की नजर

जिला अस्पताल के पास बने डॉक्टर्स कॉलोनी में मंगलवार की रात चोरों ने पांच घरों में धावा बोला और बड़ी आसानी से पांचों घरों के ताले तोड़कर चार घरों से तो सामान की चोरी नहीं हुई लेकिन एक सिस्टर के सूने घर का ताला तोड़कर आलमारी से दो लाख के जेवरात पार कर दिए। अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश वस्त्रकार के घर भी चोरी हुई है। डॉग स्क्वॉयड भी मौके पर पहुंचा। घरों से स्मेल सूंघने के बाद मेन रोड तक आकर भटक गया।

जिला अस्पताल के सामने हाउसिंग बोर्ड द्वारा स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर व स्टॉफ के लिए आवासीय क्वार्टर बनाया है। इस कॉलोनी में 50 से अधिक लोगों का निवास है। डुप्लेक्स आवासीय कॉलाेनी में अधिकांश मकानों में लोग रहते भी हैं, इसके बाद भी चोर आसानी से कॉलोनी में घुस सकते हैं, क्योंकि इस कॉलोनी में कहीं पर कोई बाउंड्रीवॉल नहीं है। इतने लोगों का निवास तो है, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि इतनी बड़ी कॉलोनी में कहीं पर भी एक सिंगल सीसीटीवी कैमरा तक नहीं लगा है।

यही वजह है कि चोर बड़ी आसानी से यहां से चाेरी करने के बाद निकल गए किंतु उसका सुराग तक नहीं मिल सका है। मंगलवार की रात डॉ. राजेश वस्त्रकार, डिप्टी कलेक्टर एसएस पैकरा, स्टाफ नर्स, लैब टेक्नीशियन कमलेश्वरी खूंटे के घरोें के ताले टूटे। पुलिस चोरों का सुराग लगाने में अब तक असफल रही है।

सूने घरों की पहले की रेकी, फिर की चोरी
जिस प्रकार चोरों ने सूने घरों को निशाना बनाया है। उससे स्पष्ट है कि चाेरों ने पहले इत्मिनान से सूने घरों की रेकी की होगी। कॉलोनी के पीछे भी एक सड़क है, उसमें भी एक लोहे का गेट लगाया गया है, वह गेट भी आधा टूटा हुआ है। एक तो चारों ओर से खुला है, दूसरा चाेरों के लिए यह रास्ता भी है, जहां से चोर घुस सकते है। इसी गेट के सामने पड़ने वाले चार घरों के ताले तोड़े गए हैं। जिन घरों को चोरों ने निशाना बनाया है, उन घरों में कोई नहीं था।

ट्रेनिंग के कारण बाहर रह रही थी अस्पताल की नर्स
जिला अस्पताल में पदस्थ नर्स अंजली प्रकाश का इन दिनों विभागीय ट्रेनिंग चल रहा है। इसलिए वह अपने आवास को छोड़कर बिलासपुर में ही रहने लगी है। उनके पति राजीव प्रकाश ने बताया कि बीच बीच में वे लोग अपने आवास को देखने के लिए आते थे, लेकिन इस बीच में लॉकडाउन के कारण लंबे समय से नहीं पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि आलमारी का ताला तोड़कर करीब दो लाख रुपए का सामान चोर ले गए।

डॉक्टर के लौटने पर पता चलेगा उनके घर में कितने की चोरी
हड्‌डी रोग विशेषज्ञ डॉ. राजेश वस्त्रकार का घर भी सूना था। वे अपने परिवार के साथ बाहर गए हुए हैं। चोरों ने उनके घर का भी ताला तोड़ा है, उनके यहां कितने की चोरी हुई यह अभी पता नहीं चल सका है क्योंकि बुधवार को भी वे नहीं लौटे थे। उनके आने के बाद ही पता चलेगा कि चोरों ने उनके घर से कितने का सामान पार किया।

पीछे के रास्ते से होते हुए घुमकर पहुंच गए रोड में
पुलिस डॉग जिन घरों में चोरी हुई वहां से निकलकर कॉलोनी के पीछे की ओर गया। उस तरफ से घुमते हुए दूसरे साइड के रास्ते से मेन रोड में आ गया। इससे यह तो तय है कि चोरी करने के बाद चोर पीछे के रास्ते से होते हुए ही सड़क पर पहुंचे हैं।

पुलिस के लिए चाेर का पता लगाना कठिन
घरों में चोरी करने वाले आरोपियों को पकड़ना पुलिस के लिए भारी चुनौती है, क्योंकि यहां न तो कहीं पर सीसीटीवी कैमरा लगा है और न ही किसी ने हुलिया पहचाना है। पुलिस डॉग घटना स्थल से आकर मेन रोड में भटक गया। यहां से दोनों ओर रास्ते हैं। तीसरी चुनौती यह है कि घटना स्थल से 500-500 मीटर की दूरी पर मोड़ है। एक मोड़ जर्वे की ओर जाता है तो इसके विपरीत सड़क घुमकर ओवरब्रिज के पास आकर मिलती है।

यहां से भी जांजगीर और चांपा के लिए रास्ता है। घटना स्थल से दांयीं ओर भी दो मोड़ है, एक रास्ता पॉलिटेक्निक कॉलेज होते हुए पेंड्री और नहर होते हुए वापस जांजगीर आता है। दूसरा रास्ता कलेक्टोरेट होते हुए चांपा मेन रोड में आता है। यहां कैमरे नहीं लगे हैं।

खबरें और भी हैं...