महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गांरटी अधिनियम:जॉब कार्डों के अपडेट व सत्यापन के लिए 30 तक चलेगा अभियान

जांजगीर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गांरटी अधिनियम) जॉब कार्डों के अपडेट और सत्यापन के लिए 30 नवम्बर तक विशेष अभियान संचालित किया जा रहा है। मनरेगा में पारदर्शिता एवं उत्तरदायित्व सुनिश्चित करने के लिए हर पांच वर्ष में जॉब कार्डों की वैधता की जांच कर उसे अपडेट किया जाता है।

केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 1 नवम्बर से 30 नवम्बर तक विशेष अभियान चलाकर परिवार रोजगार कार्डो (जॉब कार्डों) के अद्यतन एवं सत्यापन के निर्देश दिए हैं। राज्य मनरेगा आयुक्त मोहम्मद कैसर अब्दुलहक ने सभी कलेक्टरों-सह-जिला कार्यक्रम समन्वयकों को पत्र जारी किया है। उन्होंने जॉब कार्डों के सत्यापन और अद्यतन के बाद राज्य मनरेगा कार्यालय को 10 दिसम्बर तक निर्धारित प्रपत्र में जानकारी भेजने कहा है। मनरेगा के अंतर्गत जॉब कार्ड के नियमित रूप से अद्यतन के लिए संबंधित श्रमिक परिवार द्वारा किए गए कार्य की मांग, उसे उपलब्ध कराए गए कार्य दिवसों की संख्या, मस्टररोल के क्रमांक सहित उपलब्ध कराए गए कार्यों का विवरण, बेरोजगारी भत्ता के संबंध में जानकारी संबंधी जानकारी जैसी बिंदुओं को सूचीबद्ध किया गया है।

पांच साला वैध रहता है जॉब कार्ड
परिवारों को जारी जॉब कार्ड पांच वर्षों के लिए वैध रहता है। अब इसकी वैधता की जांच कर, अद्यतन व सत्यापन कर नवीनीकरण किया जाएगा। जॉब कॉर्ड यदि डुप्लीकेट हो या संबंधित परिवार के सभी सदस्य दूसरे ग्राम पंचायत में स्थाई रूप से निवास कर रहे हों अथवा बहुत समय से गांव में निवास नहीं कर रहे हों, जैसी स्थितियों में ही उस परिवार का जॉब कार्ड निरस्त किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...