CG में कोरोना फैलाने वाला हेडमास्टर:जांजगीर में बेटा संक्रमित फिर भी टेस्ट कराकर 100 टीचर्स की बैठक में पहुंचा; रिपोर्ट पॉजिटिव आई

जांजगीर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिले में सार्वजनिक कार्यकम के रोक के बाद भी गुरुवार को टीचरों की बैठक बुलाई गई। - Dainik Bhaskar
जिले में सार्वजनिक कार्यकम के रोक के बाद भी गुरुवार को टीचरों की बैठक बुलाई गई।

छत्तीसगढ़ में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है। लेकिन फिर भी लोग लापरवाह बने हुए है। ताजा मामला जांजगीर जिले का है। यहां पर एक कोरोना फैलाने वाला हेडमास्टर मिला है। हेडमास्टर का बेटा पहले से पॉजिटिव आया था, लेकिन वे कोविड टेस्ट कराकर साक्षर भारत कार्यक्रम के तहत एक मीटिंग में शामिल हुए। मीटिंग में 100 से ज्यादा टीचर्स शामिल हुए। हेडमास्टर दूसरे शिक्षकों से मिलते रहे। गुरुवार शाम उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। यहां सीएम के निर्देश पर सार्वजनिक कार्यक्रमों पर पाबंदी लगी है। बावजूद इसके बैठक आयोजित की गई थी। अब हेडमास्टर के संपर्क में आए टीचरों के संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है।

सार्वजनिक कार्यक्रमों पर पांबदी के बावजूद मीटिंग बुलाई
हेडमास्टर का बेटा पहले से संक्रमित था। मीटिंग में शामिल होने के बाद अब उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आ गई है। इतना ही नहीं जिले में स्कूल बंद करने के आदेश के बाद भी आत्मानंद स्कूल शुक्रवार को खुला रहा। दरअसल, ये सब कुछ हुआ गुरुवार को, सीएम के निर्देश के बाद से ही जिले में सार्वजनिक कार्यक्रमों में पाबंदी है। इसके बावजूद जांजगीर के डाइट बिल्डिंग में साक्षर भारत कार्यक्रम के तहत एक मीटिंग आयोजित की गई थी। इसमें 100 से अधिक टीचर शामिल हुए थे। इसी बैठक में प्राथमिक शाला दर्री खोखरा के प्रभारी प्रधान पाठक शेषनारायण राठौर भी शामिल हुए थे। वो ना केवल मीटिंग में शामिल हुए, बल्कि दूसरे टीचरों से भी मिलते रहे। शाम को मीटिंग खत्म हो गई।

टीचरों की बैठक में 100 से अधिक शिक्षक पहुंचे।
टीचरों की बैठक में 100 से अधिक शिक्षक पहुंचे।

जांजगीर में 10 महीने से RT-PCR लैब अधूरी:3 महीने से ताले में सीटी स्कैन मशीन; 55% पर अटका वैक्सीनेशन, नए साल के बाद 258 संक्रमित मिले

बाद में पता चला कि उनका बेटा पहले से ही कोरोना पॉजिटिव था। वह घर पर ही था। शेषनारायण ने भी अपना कोविड टेस्ट कराया था। फिर भी वह मीटिंग में पहुंच गए। लोगों से सामान्य तौर से मिलते रहे। इधर, शाम को जब उनकी रिपोर्ट आई तो वह कोरोना संक्रमित निकले। उनके संक्रमित होने की खबर टीचरों के वॉट्सऐप ग्रुप में भी फैल गई। इसके बावजूद इस बैठक में शामिल हुए कई टीचर शुक्रवार को भी स्कूल गए थे।

मीडिया में खबर आने के बाद बच्चों को स्कूल से घर भेजा गया।
मीडिया में खबर आने के बाद बच्चों को स्कूल से घर भेजा गया।

कलेक्टर का आदेश दरकिनार, खुला रहा स्कूल, बाद में बच्चों को घर भेजा

लापरवाही के दौर यही खत्म नहीं हुआ है। गुरुवार को जिले के कलेक्टर ने एक आदेश जारी कर जिले में नाइट कर्फ्यू की घोषणा कर दी है। साथ ही स्कूल, कॉलेज, लाइब्रेरी बंद करने के भी आदेश जारी किए हैं। नए आदेश के मुताबिक शुक्रवार से जिले के सभी स्कूलों में ऑनलाइन क्लासेस शुरू हो जानी थी। लेकिन जांजगीर का आत्मानंद स्कूल शुक्रवार को भी खुला रहा।

बच्चे सामान्य दिनों शुक्रवार को भी स्कूल पढ़ने पहुंच गए। जबकि इस स्कूल का एक बच्चा पहले भी पॉजिटिव आ चुका है। हालांकि वो किसी के संपर्क में नहीं आया था। इसी तरह अकलतरा के एक स्कूल में लाइब्रेरियन और लेक्चरर संक्रमित हो चुके हैं। वहीं इस मामले में जब जांजगीर के आत्मानंद की प्रिसिंपल सुहासिनी शर्मा का कहना है कि अब स्कूल के बच्चों को निर्देश देकर घर भेज रहे हैं। शनिवार से अब ऑनलाइन क्लासेस लगेंगी।

जांजगीर और कोरबा में भी नाइट कर्फ्यू:स्कूल, कॉलेज और आंगनबाड़ी केंद्र बंद; रेस्टोरेंट और होटल एक तिहाई के क्षमता के साथ खुलेंगे, नई गाइडलाइन जारी

खबरें और भी हैं...