पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

योजना का लाभ:छिनपुरवा, धविया नाला से किसानों को मिल रहा पानी

जांजगीर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नाला जिससे किसानों को सिंचाई के लिए मिल रहा पानी। - Dainik Bhaskar
नाला जिससे किसानों को सिंचाई के लिए मिल रहा पानी।
  • एनजीजीबी से मिल रहा फायदा, 30 किसानों को खरीफ के साथ ही रबी फसलों की हो रही सिंचाई

राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी के तहत नरवा विकास के तहत जल संचय और जलस्रोतों के संरक्षण संवर्धन के लिए महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के माध्यम से हो रहे कार्यों से खेती-किसानी को मजबूती मिल रही है। इनके जरिए सिंचाई सुविधाओं के विस्तार से किसानों की आजीविका सशक्त हो रही है।

जांजगीर-चांपा जिले के नवागढ़ विकासखण्ड में बहने वाले छिनपुरवा एवं धविया (नाला) से 30 किसानों को खरीफ के साथ ही रबी फसलों के लिए भी पानी मिल रहा है। पहले बमुश्किल सितम्बर माह तक बहने वाले नरवा अब फरवरी माह तक बह रहा है। विकासखंड नवागढ़ के भादा आश्रित ग्राम गाड़ापाली एवं अकलतरी जहां से छिनपुरवा एवं धविया नाला होकर बहता है। यह नाला आगे जाकर हसदेव नदी में मिलता है। महात्मा गांधी नरेगा से नरवा उपचार के बाद कभी सितम्बर तक सूख जाने वाले नाले में अब बरसात के बाद फरवरी और मार्च तक पानी भरा रहता है।

1.798 लाख से बनाया गया गेबियन स्ट्रक्चर
भादा ग्राम पंचायत एवं ग्राम पंचायत अकलतरी से बहने वाले छिनपुरवा नाले पर 1.798 लाख रुपए से गेबियन स्ट्रक्चर तैयार किया गया। इसी तरह ग्राम पंचायत भादा के आश्रित ग्राम गाड़पाली में बहने वाले धविया नाला पर 1.798 लाख रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति से निर्माण किया गया।

नाला बनने पर जून में ही आने लगा बोर में पानी
किसानों ने बताया जून 2020 में जब इस नाले के पानी को रोकने के लिए गेबियन स्ट्रक्चर तैयार हुआ है और आसपास के किसानों के बोरवेल में पानी आने लगा। जिससे उनको दोहरी फसल लेने की आस जाग उठी। किसानों का कहना है कि नाला के पानी से न केवल आसपास का भूजल स्तर बढ़ेगा बल्कि आगामी सालों में इस नाले में और अधिक पानी रूकने लगेगा। इस योजना के माध्यम से कृषि एवं संबंधित गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा।

खबरें और भी हैं...