पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिला योजना समिति चुनाव:257 पार्षदों में 2 व 25 जिपं सदस्यों से चुननेे हैं 14 सदस्य

जांजगीर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नगरीय निकाय में संघर्ष ज्यादा क्योंकि 165 में से चुनना है एक सदस्य
  • सहमति नहीं बनी तो मतदान 30 जुलाई को

जिले के ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों के विकास के लिए बनाई जाने वाली कार्य योजना के लिए बीस सदस्यीय जिला योजना समिति का गठन किया जाना है। इस समिति में 16 निर्वाचित सदस्य होते हैं। जिले के प्रभारी मंत्री इस समिति के पदेन अध्यक्ष व कलेक्टर पदेन सचिव होते हैं। दो अन्य सदस्यों का मनोनयन प्रभारी मंत्री की अनुशंसा से की जाती है।  जिले के ग्रामीण व नगरीय निकाय क्षेत्रों में विकास कार्यों, किस क्षेत्र में क्या जरूरी कार्य कराए जाने हैं। कहां किस प्रकार की जरूरत है, कैसे विकास कार्य कराए जाएं सहित अन्य कार्यों के लिए साल में एक बार कार्य योजना बनाई जाती है। इन कार्यों के लिए एक समिति भी बनाई जाती है, जिसमें जनसंख्या के अनुसार सदस्यों का निर्वाचन होता है। जांजगीर-चांपा जिले में 9 ब्लॉक हैं।  सांख्यिकी विभाग के अनुसार जिले की 86 प्रतिशत आबादी इन्हीं ब्लॉकों के ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है, इसलिए ग्रामीण क्षेत्र को अधिक प्रायोरिटी दी जाती है। समिति में सदस्यों के मनोनयन के लिए। इसलिए ग्रामीण क्षेत्र से 14 सदस्य निर्वाचित होंगे। इन सभी सदस्यों का निर्वाचन जिला पंचायत सदस्याें के बीच से किया जाएगा। यानि 25 जिला पंचायत सदस्यों में से 14 सदस्य जिला योजना समिति के लिए चुने जाएंगे। वहीं 4 नगर पालिका से एक और 11 नगर पंचायतों से एक सदस्य चुने जाएंगे। 

सहमति के आसार हैं कम इसलिए चुनाव की संभावना
जिला पंचायत से 14 सदस्यों का चुनाव होना है। चूंकि जिला पंचायत के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के चुनाव में भी उभय पक्षों से क्राॅस वोटिंग की चर्चा रही है। ऐसी स्थिति में चौदह सदस्य निर्विरोध चुन लिए जाएंगे इसकी संभावना अभी कम ही है। सहमति नहीं बनने पर चुनाव कराने का प्रावधान है। 30 जुलाई को समिति का गठन किया जाएगा। एक से अधिक दावेदार होने पर चुनाव होगा। 

अधिक मारामारी निकायों के एक-एक पद के लिए
जिले के 4 नगर पालिका जांजगीर-नैला, सक्ती, अकलतरा और चांपा इनमें अकलतरा छोड़कर तीन नगर पालिकाओं में कांग्रेस के अध्यक्ष हैं, लेकिन इन निकायों में 92 पार्षद हैं। इनमें कांग्रेस की अोर से ही कई दावेदार सामने आ जाएंगे। जबकि केवल एक ही पद नपा के खाते में जाएगा। वैसी ही स्थिति नगर पंचायतों के 165 पार्षदों के बीच रहेगी। इनमें से भी एक ही सदस्य बन पाएगा। 

ग्रामीण क्षेत्र के लिए जिपं के सीईओ तो नगरीय निकाय के लिए एडीएम बने नोडल अधिकारी
कलेक्टर यशवंत कुमार ने जिला योजना समिति के सदस्यों के चुनाव के लिए पीठासीन अधिकारी की नियुक्ति कर दी है। ग्रामीण क्षेत्र के 14 सदस्यों के चुनाव के लिए जिला पंचायत के सीईओ तीर्थराज अग्रवाल और नगरीय क्षेत्र के 2 सदस्यों के चुनाव के लिए अपर कलेक्टर लीना कोसम को पीठासीन अधिकारी नियुक्त किया है । चुनाव में लड़ने के लिए वे प्रत्याशियों का नामांकन 27 जुलाई से उपलब्ध कराएंगे। 
जानिए... कब क्या होगा

  • 27 एवं 28 जुलाई  को नामांकन पत्र पीठासीन अधिकारी की ओर से जिला योजना एवं सांख्यिकी कार्यालय में प्रातः 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक निशुल्क प्राप्त किए जा सकेंगे
  • नामांकन पत्र  29 जुलाई को प्रातः 11 बजे से अपरान्ह 1ः30 बजे तक संबंधित पीठासीन अधिकारी के कार्यालय में जमा किए जा सकेंगे। निर्धारित समयावधि के बाद नामांकन पत्र स्वीकार नहीं किए जावेगा।
  • दोनों क्षेत्रों के सदस्यों के चुनाव हेतु नामांकन 29 जुलाई  को बुधवार 11 बजे से दोपहर 1ः30 बजे दाखिल किए जा सकेंगे । 
  • निर्वाचन 30 जुलाई  गुरुवार को सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक संपन्न होगा ।
  •  मतगणना एवं परिणाम की घोषणा 30 जुलाई को ही दोपहर 3 बजे से की जाएगी।

जिला योजना समिति इसलिए है महत्वपूर्ण
जिले के सभी आवश्यक कार्यों की योजनाओं का अनुमोदन करना। नगरीय निकायों के मास्टर प्लान यानि गांवों को जब नगर निवेश में शामिल किया जाता है, इसका भी अनुमोदन इसी समिति से होता है। समिति की बैठक साल में एक बार प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में होती है। इस बैठक में निर्वाचित सदस्यों के अलावा प्रभारी मंत्री द्वारा मनोनीत सदस्य भी शामिल होते हैं। जिले के विधायक व सांसद आमंत्रित सदस्य होते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें