भवनों का निर्माण नहीं हो सका:जमीन विवाद इसलिए 3 साल बाद भी तीन गांवों में नहीं बने स्कूल के भवन

जांजगीर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शासन ने सक्ती के फरसवानी हाई स्कूल, मालखरौदा के मोंहदीकला हायर सेकेंडरी स्कूल और खैजा में बॉयज हास्टल के लिए तीन साल पहले स्वीकृति दी थी, लेकिन जमीन विवाद के कारण अबतक इन भवनों का निर्माण नहीं हो सका है। पीडब्ल्यूडी की माने तो लगातार वे इस संबंध में स्थानीय जनप्रतिनिधियों व राजस्व विभाग को पत्र लिख चुके हैं, लेकिन इन निर्माण कार्यों के लिए अबतक उन्हें जमीन उपलब्ध नहीं कराए गए हैं।

विभाग को फरसवानी स्कूल के लिए शासन द्वारा 75 लाख 30 हजार रुपए की स्वीकृति साल जून 2019 में मिली थी। इसी तरह मोंहदींकला के लिए अक्टूबर 2018 में 3 करोड़ 29 लाख और खैजा में बॉयज हास्टल के लिए 1 करोड़ 13 लाख रुपए की स्वीकृति अगस्त 2018 में मिली। कार्य स्वीकृत होने के बाद पीडब्ल्यूडी द्वारा टेंडर की प्रक्रिया पूरी कर ठेकेदारों से एग्रीमेंट भी कर लिया, लेकिन मौके पर जमीन उपलब्ध नहीं कराने की वजह काम शुरू ही नहीं हुआ। एग्रीमेंट के मुताबिक अबतक भवन बनकर स्कूलों को हैंडओवर कर दिया जाना था। फिलहाल विभाग फरसवानी और मोंहदीकला में जल्द काम शुरू करने की बात कह रही है। इसलिए दोनों भवनों के निर्माण के लिए फिर से टेंडर की औपचारिकता पूरी कर नया एग्रीमेंट कर काम तय भूमि पर ही भवन निर्माण किया जाएगा।

जमीन विवाद के चलते देरी
जमीन विवाद के कारण यह कार्य लंबित है, कुछ कार्यों के तो ठेकेदारों से हुए एग्रीमेंट भी समाप्त हो गए हैं। फरसवानी व मोंहदींकला का विवाद थोड़े समय पहले ही समाप्त हुआ है। इन दोनों के कार्यों के लिए फिर से रीटेंडर और एग्रीमेंट की कार्रवाई की जा रही है।''
-एमएल शर्मा, ईई पीडब्ल्यूडी जांजगीर

खबरें और भी हैं...